अमरनाथ के बर्फानी बाबा की तरह सजे देवसोमनाथ महादेव:108 पत्थरों के पिल्लरों पर बिना सीमेंट के खड़ा है शिवालय,श्रावण के आखिरी सोमवार पर दर्शनों को लगा भक्तों का तांता

डूंगरपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
देवसोमनाथ महादेव की बर्फ़ानी बाबा की तरह की गई सजावट। - Dainik Bhaskar
देवसोमनाथ महादेव की बर्फ़ानी बाबा की तरह की गई सजावट।

12वीं शताब्दी में बिना सीमेंट, ईंट और गारे के पत्थरों से बने 108 पिल्लरों पर खड़े देवसोमनाथ महादेव मंदिर में श्रावण के आखिरी सोमवार को भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी। बाबा बर्फानी की तरह सोम नदी के तट पर स्थित सोमनाथ महादेव को बर्फ से सजाया गया। बाबा के बर्फ़ानी दर्शनों के लिए भक्तों का तांता लगा रहा।

शिव मंदिरों में हुए अनुष्ठान
श्रावण के पवित्र महीने में जिलेभर के शिव मंदिरों में शिव अनुष्ठान हुए। भक्तों ने महीनेभर तक भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए पूजा-अर्चना, शिवानुष्ठान किए, जिसकी पूर्णाहुति सोमवार को श्रावण के आखिरी दिन की गई। मनसा चौथ व्रतार्थियों का भी मंदिरों में तांता रहा। शहर से 24 किमी दूर सोम नदी के तट पर 12वीं सदी में बने देवसोमनाथ महादेव मंदिर में भी कई अनुष्ठान किये गए। मान्यता है कि यह मंदिर एक रात में स्वयंभू शिवलिंग है। मंदिर में 2 शिवलिंग है, जिसमें से एक स्फटिक शिवलिंग है। श्रावण का आखिरी सोमवार होने से देवसोमनाथ महादेव को अमरनाथ में बाबा बर्फानी की तरह ही बर्फ से सजाया गया। गर्भगृह को भी फूलों सजावट की गई। सुबह से बाबा के दर्शनों की भीड़ रही और पूजा-अर्चना भी की गई।

कई मंदिरों में रही भीड़
सोमनाथ युवा मंडल के अध्यक्ष महेंद्र सेवक व पुजारी शंभुलाल सेवक ने बताया कि वैसे तो महादेव के दर्शनों के लिए हर रोज हजारों भक्त आते है, लेकिन श्रावण मास में गुजरात समेत कई जगहों से भक्त पहुंचे और बाबा के दर्शन कर आशीर्वाद लिया। इसके अलावा जिले के बेणेश्वर धाम शिवालय, कटकेश्वर महादेव मंदिर, देवला शिव मंदिर, संगमेश्वर शिवालय समेत कई मंदिरों पूजा-अर्चना व अनुष्ठान के कार्यक्रम आयोजित किए गए। शहर के नया महादेव मंदिर, सारणेश्वर शिवालय, धनेश्वर मंदिर भी दर्शनार्थियों की भीड़ रही।

खबरें और भी हैं...