पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पूरा शहर इनका आभारी:अब तक 25 से अधिक कोरोना संक्रमित शवों का दाह संस्कार कर चुकी है टीम

डूंगरपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डूंगरपुर, पीपीई कीट में टीम परिषद के कोरोना हीरोज। - Dainik Bhaskar
डूंगरपुर, पीपीई कीट में टीम परिषद के कोरोना हीरोज।

काेराेनाकाल में मनुष्य काे सांसारिक रिवाजों के तहत श्मशान पर सनातन धर्म के अनुसार मोक्ष धाम पहुंचाने का कार्य नगर परिषद के काेराेना वॉरियर कर रहे हैं। जाे अब 25 से अधिक देह का रीति-रिवाज के साथ दाह संस्कार कर अपना धर्म निभा रहे हैं। जहां पूरे विश्व में कोरोना संक्रमण ने फैला हुआ है।

इस संक्रमण के बचाव में कुछ लोग ऐसे भी है जो अपनी जान की परवाह किए बगैर दूसरों की जान की खैरियत के लिए अपनी जान की परवाह किए बगैर रात दिन आम आदमी की हिफाजत में लगा हुआ। इनमें से कुछ कर्मचारी ऐसे भी हैं, जो अपने हाथों से रोज 3 से 4 कोरोना संक्रमित शवों का सम्मान और रीति-रिवाजों के साथ दाह संस्कार कर रहे हैं।

महामारी में अपनी जान की परवाह किए बगैर शवों का दाह संस्कार कर रहे हैं ये नगरपरिषद के कर्मचारी कोरोना हीरोज से कम नहीं हैं। राज्य सरकार के आदेशों के बाद नगर परिषद ने कोरोना संक्रमित शवों के दाह संस्कार की जिम्मेदारी अपने हाथों में ली।

26 अप्रैल से आज तक कुल 28 संक्रमित शवों का दाह संस्कार नगरपरिषद के माध्यम से कराया जा रहा हैं। ये पांच सफाई कर्मचारी कई दिनों से रात को सो नहीं पाते हैं क्योंकि ये कहते ही कि सपने में ऐसा मंजर फिर न दिखाना। हर व्यक्ति को सुरक्षित रखना हैं। उन्होंने बताया की कोरोना रूपी पिशाच के लिए जल्द से जल्द दुनिया को छुटकारा मिले।

आयुक्त नरपत सिंह राजपुरोहित ने बताया कि राज्य सरकार के आदेश अनुसार शहर में कोरोना संक्रमित की मृत्यु के बाद शव को परिवारजन को नहीं साैंपा जाता हैं। इन शवों का दाह संस्कार नगरपरिषद के कर्मचारियों द्वारा किया जाता हैं।जो पूरी सुरक्षा के साथ पीपीई किट पहनकर परिवारजन की मौजूदगी में करते हैं।

नगरपरिषद द्वारा लकड़ी सहित दाह संस्कार में पूजन सामग्री की व्यवस्था भी की गई हैं। जो पूरी तरह निशुल्क हैं, वहीं कोरोना संक्रमित शव के मोक्षधाम तक पहुंचाने को लेकर नगरपरिषद ने एम्बुलेंस की व्यवस्था की गई हैं। वह भी निशुल्क हैं। आयुक्त ने बताया कि नगरपरिषद में एम्बुलेंस शहर के सबका हॉस्पिटल ने आमजन के हितार्थ के लिए दे रखी हैं। सभापति अमृत कलासुआ ने बताया इस लड़ाई में नगरपरिषद के कर्मचारी कोरोना वॉरियर्स भूमिका निभाते हुए अपना कार्य कर रहे हैं।

क्या कहते हैं नगर परिषद के कोरोना वाॅरियर
नगर परिषद के कोरोना वॉरियर प्रभु भमना, दिनेश भूरीलाल, दिनेश रामा, बंटी मदन ने बताया की नगरपरिषद द्वारा कोरोना संक्रमित शवों का दाह संस्कार के लिए हम चार लोगो की टीम बनाई हैं। इसमें सबसे वरिष्ठ दिनेश भूरीलाल कहते है कि संक्रमित शवों के दाह संस्कार करने की जिम्मेदारी में हम पूरे दिन सजग रहते हैं।

जैसे ही सूचना मिलती हैं। हम मोक्ष धाम पहुंचकर शवों का रीति-रिवाज के साथ दाह संस्कार करते हैं। अपनी सुरक्षा के लिए पीपीई किट पहनकर ही शव का दाह संस्कार करते हैं।

खबरें और भी हैं...