अच्छी खबर:स्कूल में व्याख्याता की कमी पूरी करने के लिए सहायक कृषि अधिकारी ने छोड़ी नौकरी, पढ़ाएंगे

डूंगरपुर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
डॉ. रामलाल। - Dainik Bhaskar
डॉ. रामलाल।
  • महारावल स्कूल में अब कृषि विषय पढ़ाएंगे, खुद इसी स्कूल में पढ़े हैं

सहायक कृषि अधिकारी डॉ. रामलाल खटीक ने महारावल स्कूल के बच्चों के लिए कृषि विभाग की अपनी सरकारी नौकरी को छोड़कर स्कूल में कृषि व्याख्याता का पद संभाला है। डा. रामलाल का कहना है कि वह इस स्कूल में सन् 2005 में कृषि विषय के छात्र रहे थे, उस समय विषय विशेषज्ञों की कमी के बीच उन्होंने पढ़ाई की थी।

करीब दो साल पहले वह स्कूल में आए थे तो उनको उनके गुरुओं ने कृषि संकाय में व्याख्याता का पद वर्षों से खाली होने से बच्चों को पढ़ाई का काफी नुकसान होना बताया था, उसी समय उन्होंने ठान लिया था कि वह इस स्कूल में स्वयं कृषि व्याख्याता बनकर आएंगे।

इसके लिए उन्होंने 2019 में आरपीएससी में कृषि व्याख्याता के लिए एक्जाम दिया, जयपुर में काउंसिंग हुई तो उन्होंने विशेष रूप से राजकीय महारावल स्कूल में जोइनिंग मांगी और उनका सपना पूरा हुआ। डॉ. रामलाल खटीक ने दैनिक भास्कर को बताया कि 2018 में आरपीएसी में सहायक कृषि अधिकारी का एक्जाम दिया और 22 मई 2020 को पद संभाला।

उनको सहायक निदेशक कृषि विस्तार, बड़गांव उदयपुर में पद संभाला। वह मूलरूप से डूंगरपुर शहर के आकाशवाणी कोलोनी में निवास करते हैं। करीब दो साल पूर्व वह अपने पेरेंट स्कूल महारावल में घूमने गए थे तो यहां कृषि संकाय में अनिवार्य विषय कृषि विज्ञान का व्याख्याता पिछले 7-8 साल से न होने से छात्रों का पढ़ाई का काफी नुकसान होने के साथ ही, बच्चों का प्रवेश भी लगातार होने का पता चला।

ऐसे में उनको काफी दुख हुआ और कृषि व्याख्याता बनकर इस स्कूल में नौकरी करने की मन में ठान ली। इसके उन्होंने उसी साल 2019 में आरपीएसपी में कृषि व्याख्याता के लिए एक्जाम दिया अभी 13 सितंबर को स्कूली शिक्षा का रिजल्ट जारी हुआ तो उनका सलेक्शन होने की खुशी मिली।

खबरें और भी हैं...