27 लाेगाें की माैत:सागवाड़ा में बेटी की मौत के दो दिन बाद मां भी चल बसी, दोनों की रिपोर्ट निगेटिव थी, सांस लेने में हुई थी परेशानी

डूंगरपुर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 13 महीने में एक दिन में सबसे ज्यादा मौतें, 399 पाॅजिटिव केस आए सामने, 90 डूंगरपुर ब्लाॅक, 200 आईएलआई ओपीडी से मिले मरीज, 188 स्टेट रिपाेर्ट के अनुसार रिकवर

जिले में काेराेना संक्रमण के मामले और माैत का ग्राफ बढ़ता जा रहा है। मेडिकल काॅलेज की लैब से जारी रिपाेर्ट के अनुसार आईएलआई ओपीडी से 201, सीमलवाड़ा से 22, सागवाड़ा से 16, बिछीवाड़ा से 70, डूंगरपुर ब्लाॅक से 90 पाॅजिटिव मरीज की पुष्टि हुई है। पिछले 24 घंटे में जिले के 27 लाेगाें की काेराेना से माैत हुई। यह कोरोनाकाल के 13 महीने में एक ही दिन में सबसे ज्यादा मौतें है। गुरुवार सुबह 8 बजे से शाम छह बजे तक काेविड अस्पताल में 7 लाेगाें की माैत हुई है। वहीं बुधवार रात 8 बजे से गुरुवार सुबह 8 बजे तक 13 लाेगाें की माैत हुई है।

एक युवक ने उदयपुर, धंबाेला के एक वृद्ध ने घर पर हाेम आइसाेलेट रहते हुए व एक वृद्ध ने सागवाड़ा निजी अस्पताल में माैत हाे गई। पीठ कस्बे के निकट बांकड़ा गांव के 40 वर्षीय युवक का काेराेना पाॅजिटिव हाेने पर अस्पताल में भर्ती किया। इसके बाद हालत गंभीर हाेने पर उदयपुर रेफर किया था। यहां पर इलाज के दाैरान गुरुवार काे युवक की माैत हाे गई।

इंजीनियर की गली निवासी 62 वर्षीय वृद्ध की पहले रिपाेर्ट काेराेना पाॅजिटिव आई थी। इसके बाद निगेटिव हाे चुके थे। गुरुवार काे घर पर तबियत खराब हाेने पर अस्पताल ले गए। यहां माैत हाे गई। वरदा निवासी 52 वर्षीय प्राैढ़ ने डूंगरपुर अस्पताल में दम ताेड़ दिया। रिपाेर्ट आना बाकी है। वहीं 188 लाेग काेराेना से रिकवर हुए है।
एंबुलेंस नहीं मिली ताे मृतक काे बाेलेराे से लाए श्मशान घाट

घाटा का गांव निवासी पदमजी कलाल की गुरुवार देर शाम को इलाज के दौरान मौत हो गई। कोरोना पॉजिटिव होने के बाद होम आइसोलेट थे। परिजन राजकीय पंडित दीनदयाल उपाध्याय में ले गए थे। एम्बुलेंस नहीं मिलने पर रिश्तेदार की बोलेरो जीप में शव की अंतिम यात्रा निकाली गई। मृतक के पुत्र ने बताया कि एम्बुलेंस नहीं मिली। चार शव वेटिंग पर थे l घाटा का गांव के मोक्ष धाम पर परिजनों ने पीपीई किट पहन कर अंतिम संस्कार किया।

सागवाड़ा में एक ही दिन में तीन मौत, भीलूड़ा निवासी 32 वर्षीय युवक का निधन, मेहसाणा में प्रोफेसर थे

शहर क्षेत्र में गुरुवार को एक बुजुर्ग महिला समेत तीन लोगों की मौत हो गई। महिला की बेटी की 27 अप्रेल को मौत हो गई थी। नगर निवासी 80 वर्षीय लक्ष्मी बाई चंदेल की गुरुवार को मौत हो गई। कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव बताई जा रही है, लेकिन उनको सांस लेने की तकलीफ हुई थी।

इससे पहले मंगलवार को मृतका की 40 वर्षीय बेटी तारा की सागवाड़ा अस्पताल से रेफर करने पर डूंगरपुर ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई थी। बताया जा रहा है कि तारा को हल्का बुखार था, जिस पर उसे सागवाड़ा आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया था, ऑक्सीजन लेवल कम होने से रेफर किया था। परिजन डूंगरपुर ले जा रहे थे।

रास्ते में वरदा के पास तारा की मौत हो गई थी। मां बेटी दोनों की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव बताई जा रही है। इनके अलावा नगर निवासी फखरुद्दीन अब्बास भाई मऊ डी की डूंगरपुर अस्पताल में मौत हो गई। रिपोर्ट नेगेटिव बताई जा रही है। 80 वर्षीय बुजुर्ग प्रहलाद कंठाली की गुरुवार सुबह माैत हो गई। भीलूड़ा निवासी 32 वर्षीय कवित मेहता का कोरोना से निधन हो गया। वे मेहसाणा में बायोटेक के प्रोफेसर थे।

धंबाेला निवासी दाे लाेगाें की काेराेना से माैत
हरिदेव जोशी सामान्य चिकित्सालय डूंगरपुर में नर्सिंग अधीक्षक से रिटायर्ड मोहनलाल मेहता का कोरोना से बुधवार रात 11 बजे स्वर्गवास हो गया। इसी प्रकार धंबाेला निवासी 56 वर्षीय प्राैढ़ ने गुरुवार दाेपहर में दम तोड़ दिया।
साबला. गुरुवार को साबला उपखंड में कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण के साथ ही 3 मौत के केस सामने आए हैं। डॉक्टर अलंकार गुप्ता ने बताया कि साबला उपखंड के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में दोपहर 1 बजे एक संक्रमित की मौत हो गई। वहीं बाकी दो मरीज़ की मौत डूंगरपुर सरकारी अस्पताल में हुई।

तीनो संक्रमित जैन समुदाय के थे जिसके बाद साबला के सभी जैन समुदाय के लोगों ने अपने व्यवसायिक प्रतिष्ठानों को स्वत ही बंद करने की इच्छा जाहिर की। एक ही परिवार से दो मौते हुई हैं। जिसमे जेठ व छोटे भाई की पत्नी की मौत हो गई हैं।

खबरें और भी हैं...