• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Banswara
  • Naugama
  • Harsiddhi Mata, Who Is Enshrined On The Hill, Fulfills Every Wish, The View Remains Beautiful At Sunset From The Court Of Harsiddhi Maa, Located In Malvasa Village.

नवरात्र विशेष:हर मुराद पूरा करती है पहाड़ी पर विराजित हरसिद्धि माता, मलवासा गांव में स्थित हरसिद्धि मां के दरबार से सूर्यास्त को मनमोहक रहता है नजारा

नौगामा10 महीने पहलेलेखक: नारायण कलाल
  • कॉपी लिंक
मलवागांव में पहाड़ी पर स्थित मंदिर में माता हरसिद्धि की मूर्ति और मंदिर तक जाने के लिए बनी सीढ़ियां। - Dainik Bhaskar
मलवागांव में पहाड़ी पर स्थित मंदिर में माता हरसिद्धि की मूर्ति और मंदिर तक जाने के लिए बनी सीढ़ियां।

छींच के ब्रह्माजी मंदिर से महज 3 किलोमीटर दूर मलवासा गांव में पहाड़ी पर स्थित है देवी हरसिद्धि माता का मंदिर,जहां मंगला आरती की धुन पर समूची पहाड़ी गूंज उठती है। यहां मांगी गई हर मुराद पूरी होती है। मंदिर परिसर से चारों और तक फैला प्राकृतिक सौंदर्य श्रद्धालुओं को आकर्षित करता है। मंदिर के पुजारी योगेश उपाध्याय ने बताया कि प्रतिवर्ष नवरात्र के नौ दिनों में जिलेभर के हजारों श्रद्धालुओं यहां दर्शनार्थ पहुंचते है।

अनेक लोग अपनी मांगी गई मुराद पूरी होने पर पैदल ही यहां तक पहुंचकर माता का शृंगार कर और चढ़ावा चढ़ाते हैं। माता के भक्त और जनप्रतिनिधियों की मदद से पहाड़ी पर स्थित माता रानी का दरबार काफी लोकप्रिय हो चुका है। यहां चारों दिशाओं से मंदिर तक आने की सुविधा है। पहाड़ी पर चढ़ने के बाद मंदिर तक 60 सीढ़ियां हैं।

उपाध्याय ने बताया कि एक बार जो भक्त यहां पहुंचा उस माता भक्त को यहां का वातावरण और देवी माता का आकर्षण दोबारा खींच लाता है। मंदिर के नीचे प्राचीन नीलकंठेश्वर मंदिर जिसके भग्नावशेष आज भी मौजूद है तथा प्राचीन शिलालेख और पत्थरों की नियमबद्ध नजर आती नींव अभी भी है, जिससे सिद्ध होता है कि सैकड़ों वर्षों पूर्व यहां कोई उन्नत नगर था।

शक्ति और भक्ति के इस पर्व पर यदि आपने आज तक देवी हरसिद्धि के दर्शन का लाभ नहीं लिया तो इस प्राकृतिक और दर्शनीय स्थल पर अवश्य पहुंचे और दर्शन के साथ ही पहाड़ी से सूर्यास्त के शानदार नजारे का लाभ ले। हरसिद्धि माता मंदिर के आसपास वागड़ क्षेत्र के प्रमुख देवालय हैं जिसमें ब्रह्माजी मंदिर 3 किलोमीटर, नीलकंठ महादेव 3 किलोमीटर, विट्ठलदेव मंदिर 3 किलोमीटर, सत्यनारायण मंदिर 4 किलोमीटर, त्रिपुरा सुंदरी माता मंदिर 4 किलोमीटर दूरी पर स्थित है।

खबरें और भी हैं...