कोरोना के बाद से ओटोमोबाइल सेक्टर में 30% ग्रोथ:दिवाली तक 2 हजार कारें बिकेंगी, डिलीवरी में चार महीने की वेटिंग, इसलिए पहले बुकिंग कराने वालों को फायदा

बांसवाड़ा10 दिन पहलेलेखक: विजयपाल डूडी
  • कॉपी लिंक
  • कोरोनाकाल में निजी वाहनों को खरीदने का चलन बढ़ा, इस साल अब तक 682 कारें और 7312 बाइक बिक चुकी

नवरात्र से लेकर लाभ पंचमी के इन 30 दिनों के बीच इस बार 45 से 50 करोड़ के टू व्हीलर और 600 से ज्यादा कारों की बिक्री की उम्मीद है। बाजार में डिमांड ऐसी है कि कार की बुकिंग करने के बावजूद लोगों को उपलब्ध नहीं हो रही है। शोरूम मालिक कार की डिलीवरी का समय 3 से 4 महीने बाद का दे रहे हैं। कोरोनाकाल के बाद से ही वाहनों की बिक्री लगातार बढ़ती जा रही है। इस मार्केट में 30 फीसदी की ग्रोथ देखी गई है। इस बार ओटो मोबाइल व्यापारी 45-50 करोड़ के टू-व्हीलर जिले में बिकने की उम्मीद है। जहां पिछले पूरे साल में 20 हजार बाइकों की खरीद हुई थी, जो इस साल 30 हजार के करीब खरीद की उम्मीद है।

देशभर में इस समय पांच लाख से ज्यादा कारों की बुकिंग पेंडिंग है। सेमीकंडक्टर और अन्य कंपोनेंट की किल्लत के चलते कार निर्माता पूरी क्षमता से उत्पादन नहीं कर पा रहे हैं और इसका असर उनके प्रोडक्शन पर दिखाई दे रहा है। वहीं चिप की किल्लत का असर सभी ऑटोमोबाइल निर्माताओं पर पड़ा है। त्योहारी सीजन की शुरुआत में प्रोडक्शन में कमी ने डीलरों की चिंता बढ़ा दी है।

कोरोना संकट के दौरान बड़ी संख्या में लोगों को अपनी गाड़ी की अहमियत समझ आई है। अब लोग कम से कम एक दुपहिया वाहन जरूर लेना चाहते हैं, ताकि किसी भी तरह की इमरजेंसी में आवाजाही पर असर ना पड़े। कोरोना के दौरान भी सार्वजनिक परिवहन बंद होने से उन लोगों को सबसे ज्यादा परेशानी झेलनी पड़ी, जिनके पास अपने वाहन नहीं थे। लोअर और मिडिल क्लास आदमी टू व्हीलर अफोर्ड कर रहा है। साथ ही अब कोरोना से बचाव के लिए पब्लिक पैलेस में जाना पसंद नहीं कर रहे हैं, स्कूल भी बस में ना जाकर खुद के वाहन से जाना ज्यादा सहूलियत समझ रहे हैं।

नवरात्र से दिवाली तक के दिनों में 9 हजार बाइक और 600 कारों की ब्रिक्री की उम्मीद जताई जा रही है। पिछले साल के इस त्योहारी सीजन की बात करें तो 36 करोड़ का व्यापार टू-व्हीलर से हुआ था। अब सेफ्टी के लिए व्यक्ति खुद के वाहन में ही जाना-आना पसंद कर रहे हैं। व्यापारियों की मानें तो कोरोना से पहले और बाद में 25 से 30 प्रतिशत की ब्रिक्री बढ़ गई है। वहीं कार सबसे ज्यादा बिक रही है, जितना ऑर्डर डीलर को मिल रहा है उससे 50 प्रतिशत ही कार ग्राहकों को मिल रही है। पिछले साल 2020 के मुकाबले 2021 में वाहनों की ब्रिक्री 10 प्रतिशत से ज्यादा होने की उम्मीद व्यापारी बता रहे हैं।

  • 9000 बाइक की बिक्री की उम्मीद है इस बार
  • 600 छोटी कारों की बिक्री की उम्मीद है
  • 50% ऑर्डर कार की डिलीवरी होना मुश्किल
  • 10% ज्यादा बिक्री होगी पिछले साल के मुकाबले

फाडा की ओर आंकड़ों के मुताबिक, सितंबर महीने में कारों की बिक्री में सालाना आधार पर 16 फीसदी का इजाफा हुआ। पिछले साल सितंबर में 2,00,576 कारें बिकीं थीं, जो इस सितंबर में बढ़कर 2,33,308 हो गई। यह संख्या सितंबर 2019 में हुई बिक्री से भी 31 फीसदी अधिक है।

6 हजार गाड़ियों का लक्ष्य
पिछले साल 4 हजार गाड़ियां बेची थीं। इस साल 6 हजार का लक्ष्य है। नवरात्र पर भी करीब 100 ग्राहक हैं, जिन्होंने बुकिंग कर रखी है। अगले कुछ दिनों में संख्या बढ़ने की संभावना है।
-मुन्ननर हुसैन, हीरो शोरूम

बिक्री 30% तक बढ़ी
इस साल अभी हमारी बिक्री करीब 25 से 30 फीसदी बढ़ गई है। पिछले साल फेस्टिव सीजन में करीब 3 हजार गाड़ियां बेची थीं, इस बार 5 हजार से ज्यादा की संभावना है।
- बिन्नी पटेल, होंडा शोरुम

खबरें और भी हैं...