मंत्री से बोले जवान, नौकरी बचा लो साहब!:नौकरी से हटाए गए MBC के 29 जवान मंत्री मालवीया से मिले

बांसवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिला कलेक्ट्रेट में मंत्री से मिलने पहुंचे अभ्यर्थी। - Dainik Bhaskar
जिला कलेक्ट्रेट में मंत्री से मिलने पहुंचे अभ्यर्थी।

अदालती आदेश पर नौकरी से हटाए गए मेवाड़ भील कोर (MBC) के जवानों ने बहाली को लेकर मंगलवार को जल संसाधन मंत्री महेंद्रजीतसिंह मालवीया से मुलाकात की। कलेक्ट्रेट में वीसी कक्ष से बाहर निकले मालवीया से मिले जवानों ने कहा कि साहब! उनकी सेवाएं बेहतर थी। इसके बावजूद उन्हें सेवा से हटा दिया गया है। कैसे भी कर नौकरी बहाल करवा दो। मामला अदालत में चल रहा है, इसलिए मालवीया ने उन्हें इतना कहा कि वे इसके लिए प्रयास करेंगे।

वर्ष 2018 में MBC में कांस्टेबल पद के लिए भर्ती हुई थी। सलेक्शन के बाद 29 जवानों को बेसिक प्रशिक्षण के लिए जम्मू भेजा गया था। वहां स्वास्थ्य परीक्षण के बाद इन जवानों को अनफिट पाया गया था। कोर्ट और प्रदेश पुलिस मुख्यालय के आदेश के बाद बांसवाड़ा SP ने इन जवानों की सेवाएं समाप्त कर दी।

कैमरा देख MBC के पूर्व जवानों ने मंत्री मालवीया से बना ली दूरी।
कैमरा देख MBC के पूर्व जवानों ने मंत्री मालवीया से बना ली दूरी।

ये है पूरा मामला
MBC के लिए वर्ष 2018 में भर्ती हुई थी। तब दिसम्बर में 570 अभ्यर्थियों का स्वास्थ्य परीक्षण हुआ। अधिक संख्या के कारण जवानों का स्वास्थ्य परीक्षण अलग-अलग जगह पर हुआ। इनमें से 100 को प्रतापगढ़, 125 को उदयपुर, 100 को डूंगरपुर, 200 का बांसवाड़ा, सिरोही, पाली, चित्तौड़गढ़ में हुआ था। इसके बाद सभी जवानों को उद्यमपुर (जम्मू) स्थित BSF के ट्रेनिंग सेंटर भेजा गया, जहां दूसरी बार स्वास्थ्य जांच हुई। यहां आईसाइड से कमजोर अभ्यर्थियों की सूचना BSF मुख्यालय भेजी गई। वहां से उन्हें बाहर कर दिया गया। इसके बाद जयपुर के SMS हॉस्पिटल में जांच के बाद इनमें से कई अभ्यर्थियों को आईसाइड से योग्य मान लिया गया था। इसके बाद ये अभ्यर्थी अदालत से स्थगन आदेश ले आए थे। इसके बाद ट्रेनिंग करके नौकरी कर रहे थे, लेकिन अब कोर्ट ने इन्हें अयोग्य घोषित कर दिया। इसलिए इन्हें नौकरी से हटा भी दिया गया है।