सास-ससुर की 60 की उम्र में कराई शादी:दामाद ने बुजुर्ग दंपती को दिलवाए फेरे, प्यार के लिए 40 साल पहले समाज से लिया था पंगा

बांसवाड़ा5 महीने पहले

प्यार यदि सच्चा हो तो देर सबेर अपने अंजाम तक पहुंच ही जाता है। बांसवाड़ा में एक ऐसा ही मामला सामने आया है। 40 साल पहले घर से भागने वाले प्रेमी जोड़े की शादी अब जाकर संपन्न हुई है। तब सामाजिक और पारिवारिक विरोध के कारण शादी नहीं हो पाई थी। मजे की बात यह है कि दोनों की शादी उनके दामाद ने कराई है।

दरअसल, करीब 40 साल पहले रूपगढ़ के वड़लीपाड़ा निवासी बाबू (60) को तलाईपाड़ा निवासी कांता (60) से प्यार हो गया था। दोनों एक-दूसरे को पसंद करते थे। तब प्रेम-विवाह समाज में इतना स्वीकार्य नहीं था। परिवार उनकी शादी के खिलाफ था। हालांकि फिर भी दोनों ने लव मैरिज कर ली और साथ रहने लगे। इस पर उन्हें परिवार और समाज का विरोध भी झेलना पड़ा था। इसी वजह से उस समय दोनों की सामाजिक रीति-रिवाज से शादी नहीं हो सकी थी।

विधिवत हुई शादी, मेहमान भी आए
सामाजिक रूप से शादी न हो पाने की टीस भी बाबू और कांता के मन कहीं न कहीं रह गई थी। उनकी बेटी और दामाद को भी इसका आभास हो गया था। दोनों ने बुजुर्ग दंपती को शादी के बंधन में बांधने की ठानी। इस बीच, बुधवार को बाबू और कांता ने सामाजिक रीति-रिवाज के साथ फेरे लिए। शादी में करीब 100 लोगों ने लिया हिस्सा। विवाहिता के परिवार वालों को भी बुलाया गया। बाबू और कांता की एक ही संतान है सीमा। उसकी शादी राजू से हुई है। बुजुर्ग दंपती के लिए बेटी-दामाद ही सबकुछ हैं।

कंटेंट : जगदीश चावड़ा (मोहकमपुरा)