पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

खेल-कूद को बढ़ावा:प्रदेश की पहली जनजाति हॉकी अकादमी में डूंगरपुर के 8 और बांसवाड़ा से 6 खिलाड़ी

बांसवाड़ा8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जनजाति हॉकी अकादमी मैदान पर प्रैक्टिस करते बच्चे। - Dainik Bhaskar
जनजाति हॉकी अकादमी मैदान पर प्रैक्टिस करते बच्चे।
  • उदयपुर में 70 खिलाड़ियों को ट्रेनिंग मिलेगी, उदयपुर के 19, प्रतापगढ़ केे 4 और आबूरोड के 3 बच्चे भी शामिल, विश्व आदिवासी दिवस पर होगा शुभारंभ

प्रदेश की पहली जनजाति बालक हॉकी अकादमी उदयपुर को 9 अगस्त को मिलने जा रही है। विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर मुख्यमंत्री द्वारा अकादमी का शुभारंभ करेंगे। हॉकी अकादमी में केवल जनजाति क्षेत्र के 40 बालक और 30 बालिकाएं कोचिंग लेंगी। हॉकी एकेडमी में पूर्व अंतरराष्ट्रीय हॉकी प्लेयर और ओलंपियन अशोक ध्यानचंद कोचिंग देंगे। बच्चों के सलेक्शन के लिए उनके नेतृत्व में कमेटी बनाई है। जिन्होंने 40 बालकों का सलेक्शन फाइनल कर दिया है, जबकि बालिकाओं के लिए हर जिले में ट्रायल के माध्यम से 30 बच्चियों का सलेक्शन किया।

उदयपुर जिला खेल अधिकारी शकील हुसैन ने बताया कि इस संबंध में पूर्व में ध्यानचंद की अध्यक्षता में गठित समिति द्वारा संभाग के 7 खेल छात्रावासों और अन्य खिलाड़ियों के कुल 40 खिलाडि़य़ों का चयन किया है। जिसमें उदयपुर जिले से 19, डूंगरपुर जिले से 8, बांसवाड़ा जिले से 6, प्रतापगढ़ से 4 और आबूरोड से 3 बच्चे हैं। 5 खिलाड़ियों को रिजर्व के तौर पर चयन किया है। समिति में हॉकी प्रशिक्षक शकील हुसैन, कुलदीप सिंह झाला और राष्ट्रीय स्तर के अम्पायर मोहम्मद हनीफ भी शामिल रहे।

ये हैं बांसवाड़ा से चयनित खिलाड़ी

  • विदेश कटारा पुत्र माना कटारा
  • शेर सिंह खराड़ी पुत्र अमर सिंह खराड़ी
  • बसंतीलाल मईडा पुत्र भरत मईड़ा
  • अविनाश राणा पुत्र प्रकाश राणा
  • रोशन निनामा पुत्र प्रकाश निनामा
  • कल्पित कटारा पुत्र कांतिलाल कटारा
  • नितिन राणा पुत्र प्रकाश राणा ( सुरक्षित/रिर्जव खिलाड़ी रखा है)

खास: शिक्षा, हॉस्टल व खाने सहित सभी सुविधाएं निशुल्क

जनजाति हाॅकी अकादमी में चयन होने वाले सभी बच्चों को शिक्षा, रहने के लिए हॉस्टल सभी निशुल्क रहेगा। उदयपुर जिला खेल अधिकारी शकील हुसैन ने बताया कि बच्चों किसी भी तरह पैसा खर्च करने की आवश्यकता नहीं होगी। बच्चों को अंतरराष्ट्रीय स्तर की कोचिंग मिलेगी, संभाग का पहला एस्ट्रो टर्फ खेल मैदान पर प्रशिक्षण प्राप्त करने का मौके मिलेगा। उसके अलावा उनकी पढ़ाई, रहने की व्यवस्था खेल गांव हॉस्टल में, भोजन की व्यवस्था, खेल के लिए हर तरह की सामग्री, ड्रेस, ट्रैक सुट, जूते सभी तरह की व्यवस्था अकादमी द्वारा कराई जाएगी।

आगे क्या: 30 बालिकाओं के चयन के लिए जिले वार अब ट्रायल लिया जाएगा

जनजाति हाॅकी अकादमी में जहां 40 बालकों का फाइनल चयन हो चुका है, वहीं अब 30 बालिकाओं को भी चयन इस अकादमी में प्रशिक्षण के लिए होगा। जिसको लेकर विभाग ने तैयारी भी शुरू कर दी है। बताया जा रहा है कि पहले की तरह इस बार भी जनजाति जिलों में जाकर बालिकाओं का ट्रायल लिया जाएगा। यह ट्रायल 24 जुलाई से लेकर 26 जुलाई तक चलेगा। उसके बाद फाइनल 30 का सलेक्शन महाराणा प्रताप खेलगांव के हॉकी एस्ट्रो टर्फ खेल मैदान पर होगा।