कोविड डेडिकेटेड हॉस्पिटल में नर्सिंग स्टाफ कोरोना पॉजीटिव:एक केस सामने आया, संपर्क में आए स्टाफ में दहशत, सभी ने दिए नमूने

बांसवाड़ा5 महीने पहले
महात्मा गांधी जिला अस्पताल में कोरोना जांच के लिए गली नर्सिंग स्टाफ की कतार।

महात्मा गांधी जिला अस्पताल का स्टाफ भी कोरोना की चपेट में आ गया है। एक दिन पहले स्टाफ नर्स के पॉजिटिव आने की सूचना के बाद शुक्रवार को यहां बाकी के नर्सिंग स्टाफ में दहशत का माहौल बना रहा। सुबह अस्पताल पहुंचे स्टाफ को जैसे ही महिला नर्स के पॉजिटिव आने की सूचना मिली। बिना देर लगाए नर्स के संपर्क में आए ICU स्टाफ एवं अन्य अस्पताल कर्मचारियों ने कोरोना के सैंपल दिए। फिलहाल ऐसे स्टाफ की संख्या 15 के करीब बताई जा रही है। आज लिए गए RTPCR नमूनों के रिजल्ट देर शाम तक मिलेंगे। तीसरी लहर के कोरोना में जिला अस्पताल के कोरोना पॉजिटिव मिलने का यह पहला मामला है।

अस्पताल के कोविड 19 कियोस्क के बाहर लगी नर्सिंग स्टाफ की कतार।
अस्पताल के कोविड 19 कियोस्क के बाहर लगी नर्सिंग स्टाफ की कतार।

दरअसल, अस्पताल के ICU वार्ड में सेवाएं दे रही स्टाफ नर्स को कुछ दिन से बुखार और सीने में दर्द जैसे लक्षण थे। आशंकाओं के बीच उसने सैंपल दिया तो गुरुवार शाम को आई रिपोर्ट में वह पॉजिटिव आई। इसके बाद संपर्क में आए बाकी के स्टाफ ने यहां सैंपल दिए। गौरतलब है कि चिकित्सालय में वर्तमान में करीब 150 नर्सिंग स्टाफ सेवारत है, जबकि 60 के करीब डॉक्टर्स हैं।

वहीं 100 के करीब कर्मचारी काम करते हैं। मामले में अस्पताल लैब के इंचार्ज डॉ. समीर खान ने बताया कि अस्पताल के करीब 15 स्टाफ ने आज नमूने दिए हैं, जिनकी रिपोर्ट शाम तक क्लीयर होगी। वहीं पहले से पॉजिटिव मिली महिला स्टाफ को आइसोलेट कर दिया गया है। गौरतलब है कि बीते 8 दिनों के दौरान जिले में करीब 40 कोरोना पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं। हर दिन करीब 300 नमूने केवल हॉस्पिटल लैब की ओर से लिए जा रहे हैं।

मुझे भी सूचना मिली है
इधर, अस्पताल के PMO डॉ. रवि उपाध्याय ने बताया कि महिला स्टाफ के पॉजिटिव आने की सूचना उन्हें भी मिली है, लेकिन कोई रिपोर्ट उन्हें नहीं मिली है। तीसरी लहर में अस्पताल स्टाफ के पॉजिटिव आने का यह पहला मामला है।

खबरें और भी हैं...