• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Banswara
  • According To Astrology, Shani Dev Is The Slowest Moving Planet, Now The Troubles Of Those Who Walk In Half and half Will Increase.

धनु, मिथुन और तुला राशि में आज से सुधार:ज्योतिष शास्त्र के हिसाब से मार्गी हुए शनिदेव, सबसे धीमी चाल चलने वाला ग्रह, साढ़े साती और ढैय्या से ग्रस्त राशियों की परेशानी बढ़ेगी

बांसवाड़ाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
डेमो पिक। - Dainik Bhaskar
डेमो पिक।

ज्योतिष शास्त्र के हिसाब से एक दिन पहले शनि देव वक्री से मार्गी हो गए हैं। यानी शनि देव अब उनकी सीधी चाल चलेंगे। इससे वह राशियों को सीधे तौर पर प्रभावित करेंगे। इससे कुछ राशियों के दिनमान आज से सुधरते दिखेंगे। मकर राशि पर वक्री चाल पर सवार शनि देव के मार्गी होने का फायदा धनु, मिथुन और तुला राशि को सर्वाधिक मिलेगा। ऐसे लोगों की जिंदगी में कुछ न कुछ बदलावों का अहसास होने लगेगा।

बांसवाड़ा से पंडित भवानी खंडेलवाल ने बताया कि ज्योतिष शास्त्र में शनि की विशेष भूमिका है। ये सभी 9 ग्रह में धीमी चाल वाला ग्रह है। शनि देव करीब ढाई वर्षों में एक से दूसरी राशि में जाते हैं। शनि के इस परिवर्तन का प्रभाव सभी राशियों पर पड़ता है। शनि की महादशा, साढ़े साती और ढैय्या का विशेष महत्व है। शनि देव एक दिन पहले तक मकर राशि पर विराजे हुए थे। अब तक वक्री चल रहे थे, लेकिन अब मार्गी हो गए हैं। इससे बहुत सी राशियों को राहत मिलेगी। पंडित खंडेलवाल ने बताया कि आगे 29 अप्रैल 2022 को शनि का राशि परिवर्तन होगा। इस कारण से धनु राशि के जातकों पर शनि की साढ़े साती से मुक्ति हो जाएगी। इस राशि पर साढ़े साती का आखिरी चरण है। ऐसे में शनि के मार्गी होने से धनु राशि पर परेशानियां कम होंगी। वहीं मिथुन और तुला राशि को भी राहत मिलेगी। यहां मकर राशि पर शनि की साढ़े साती का दूसरा चरण चल रहा है। वर्ष 2025 में मकर राशि से शनि की साढ़े साती प्रभाव खत्म हो जाएगा। शनि जब मीन राशि में गोचर करेंगे। तब मकर राशि के जातकों को शनि की साढ़े साती के प्रभाव से मुक्ति मिलेगी।

साढ़े साती में 3 राशि
वर्तमान ग्रहों के हिसाब से शनि देव के कारण धनु, मकर और कुंभ पर शनि की साढ़े साती लगी हुई है। मकर राशि पर शनि की साढ़े साती का दूसरा चरण चल रहा है। इस कारण इस राशि वालों के काम नहीं बनेंगे। बीमारियां घेरे रहेंगी। वर्ष 2025 में मकर राशि से शनि की साढ़े साती खत्म होगी। शनि जब मीन राशि में गोचर करेंगे। तब मकर राशि के जातकों को शनि की साढ़े साती के प्रभाव से मुक्ति मिलेगी। शनि के मकर राशि में गोचर करने के कारण कुंभ राशि पर शनि की साढ़े साती का पहला चरण चल रहा है। कुंभ राशि पर साढ़े साती होने की वजह से कई तरह की परेशानियां पीछा करती हैं। कुंभ राशि से पूरी तरह शनि की साढ़े साती 23 जनवरी 2028 को हटेगी।

इन राशियों पर ऐसा प्रभाव
मेष -: धन-सेहत पर सावधान रहें। शनिवार को शनि देव का दान करें। अहंकार छोड़ दें।
वृषभ -: जॉब-करियर में अचानक से बाधाएं संभव हैं। बॉस से रिश्ते खराब हो सकते हैं। मीठा बोलें।
मिथुन -: इस राशि पर शनि की ढैय्या चल रही है। पूंजी निवेश में सावधानी बरतें।
कर्क -: तनाव संभव है। मंजिल के लिए अधिक परिश्रम संभव है। दुश्मन से सजगता जरूरी है।​​​​​​​
सिंह -: व्यापार में फायदा संभव है। मदद करने वालों का मान करें। शनि से जुड़ी चीजों का दान करें।
कन्या -: सफलता के लिए परिश्रम अधिक करना पड़ सकता है। गुस्से का असर रिश्तों पर पड़ सकता है।
तुला -: शनि की ढैया है। इसलिए विशेष सावधानी बरतें। जीवन साथी को नाराज न करें।
वृश्चिक -: अचानक लाभ के आसार हैं। धर्म-कर्म में मन लगेगा। दूसरों का अपमान नहीं करें।
धनु -: साढ़े साती से शनि की विशेष दृष्टि है। धोखा संभव है। सेहत को लेकर सावधान रहें।
मकर -: आलस से खुद को दूर रखें। समय पर कार्य पूरा करें। परिश्रम करने वालों का सम्मान करें।
कुंभ -: साढ़े साती में शनि को शांत रखें। शनिवार को शनि मंदिर में पूजा करें। गलत संगत छोड़ें।
मीन -: जॉब बदलने के चांस है। व्यापार में सफलता के लिए कड़ी मेहनत करनी हाेगी। विवाद से दूर रहें।

खबरें और भी हैं...