• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Banswara
  • Asphalt And Ballast Missing, Mud And Mud On The Road, Tracks Cut Along The Side, Difficult To See In The Bushes, Full Of Potholes

6 किमी की सड़क में 600 से ज्यादा गड्‌ढे़:गड्‌ढों, कीचड़, झाड़ियों से लोग परेशान, 2019 में गारंटी पीरियड खत्म होने के बाद विभाग ने नहीं ली सुध

बांसवाड़ाएक वर्ष पहले
बामनवाड़ा मुख्य सड़क को जोड़ने वाली सड़क।

बामनवाड़ा (घाटोल) मुख्य सड़क से दूदका गांव को जोड़ने वाली 6 किलोमीटर की सड़क पर 600 से ज्यादा परेशानी है। 2019 में गारंटी पीरियड खत्म होने के बाद से इस सड़क की किसी ने सुध नहीं ली हैं। वर्ष 2016 में नाबार्ड से मिले बजट से सड़क बनाई गई थी। करीब 6 किलोमीटर लंबी सड़क को दो फेज में बनाया गया था। दो ठेका एजेंसियों ने अलग-अलग इसका निर्माण किया था। इसमें 0 0 से 2 0 किलोमीटर की सड़क के लिए 11 लाख का बजट स्वीकृत हुआ था। जिसका काम 15 अप्रैल 2016 में शुरू हुआ और 14 सितम्बर तक काम पुरा किया गया। इसी तरह 2.0 से 6.0 की सड़क का निर्माण पीसी जैन एंड कंपनी की ओर से हुआ था। चार किलोमीटर सड़क पर करीब 25 लाख का खर्च आया था। दोनों सड़कों की गारंटी अवधि 2019 में खत्म हो चुकी है। इसके बाद से इस सड़क की किसी ने सुध नहीं ली। आज हालात ये है कि सड़क की दुर्दशा से वाहन चालकों को परेशानी होती हैं। जंगली इलाके से होकर गुजरने वाली इस सड़क को लेकर लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) सोया हुआ है।

सड़क पर बने गड़ढे़ और झाड़ियों ने डाला डेरा

सड़क की दुर्दशा का हाल ये है कि जगह-जगह से डामर और मिट्‌टी गायब हो चुकी हैं। मिट्‌टी ने कीचड़ का रूप ले लिया है। इसके अलावा ऊंचाई वाले पहाड़ी हिस्से में सड़क के किनारे कट गए हैं। झाड़ियों ने सड़क पर डेरा डाला हुआ है। पूरी सड़क पर छोटे-बड़े मिलाकर कई गड्‌ढे हैं, जो दुपहिया सवार ग्रामीणों के लिए डेली की चुनौती बन गए हैं। रात के अंधेरे में जरा सी लापरवाही यहां से गुजरने वाले वाहन चालकों पर भारी पड़ सकती है। करीब 4 साल से इस सड़क पर कोई पेंच कार्य नहीं हुआ है। समस्या इन दिनों में ज्यादा गंभीर बनी हुई है, लेकिन शिकायत के बावजूद विभाग के जिम्मेदार ग्रामीणों की परेशानी का स्थायी समाधान करने से कतरा रहे हैं।

तब शर्तें पूरी नहीं हुई

वर्ष 2016 में बनी सड़क पर दूसरी बार कभी पेंच कार्य नहीं हुआ। गारंटी अवधि समाप्ति होने के बाद ठेकेदार को सड़क दुरस्त करके विभाग को सौंपनी होती है। शर्त के कायदे पूरे होने के बाद ही विभाग इस निर्माण से जुड़ी सिक्युरिटी राशि ठेकेदार को लौटाता है। सड़क पर कहीं भी टूट-फूट या खामी होने पर विभाग ठेकेदार की सिक्योरिटी राशि को रोक सकता है।

जुटाता हूं जानकारी

पीडब्ल्यूडी के घाटोल उपखण्ड के एक्सईएन अमित गर्ग ने बताया कि सड़क की ऐसी खामी उन्हें जानकारी नहीं है। वह शीघ्र ही सड़क को दिखवाएंगे। सुधार कार्य करने से पहले व्यवस्था बहाल करने के प्रयास करेंगे। ताकि आवागमन आसान हो सकें। अभी नए प्रस्तावों में इस सड़क को शामिल नहीं किया है, लेकिन संभव हुआ तो इसके लिए अलग से बजट लेने की कोशिश करेंगे।

खबरें और भी हैं...