पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

शहर के सेनेटाइजेशन पर उठे सवाल:भाजपा समर्थित पार्षद बोले : सैनेटाइजर के नाम पर नगर परिषद कर रही पक्षपात

बांसवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के मुस्लिम कॉलोनी इलाके मे - Dainik Bhaskar
शहर के मुस्लिम कॉलोनी इलाके मे
  • वार्डवासियों के लिए अहमदाबाद से मंगाते हैं सेनेटाइजर
  • कहीं-कहीं तो हवा के साथ गुल हो जाता है सेनेटाइज टैम्पो
  • शुक्रवार को मुस्लिम कॉलोनी इलाके की सड़कें भी हुई सेनेटाइज

बांसवाड़ा। कोरोना संक्रमण की रफ्तार को रोेकने के लिए नगर परिषद की ओर से शहर में हो रहा सेनेटाइज छिड़काव यहां सवालों के घेरे में है। इसकी वजह शहर के कुछ इलाकों में छिड़काव को लेकर हो रही अनदेखी है, जबकि कई जगहों पर मनमाने ढंग से सेनेटाइज उड़ेला जा रहा है। चहेते पार्षदों के वार्ड में तो नगर परिषद की टोली सड़कों पर सेनेटाइज बहाने से गुरेज नहीं कर रही।

वहीं विपक्ष में बैठे पार्षदों के वार्डों में सरकारी वाहन हवा की तरह गुजरते हुए उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं। परिषद के कार्मिकों की इस पक्षपातपूर्ण रवैये से तंग आकर वार्ड नंबर 42 के पार्षद ने तो स्वयं के बूते वार्ड में छिड़काव कराना शुरू कर दिया है। भाजपा समर्थित पार्षद भरत जोशी का आरोप है कि परिषद में चेहरा देखकर तिलक लगाया जा रहा है।

आरोप है कि कार्य में लगे परिषद कार्मिक किसी खामी दूर करने की बजाए जनप्रतिनिधि से अभद्रता करने से भी बाज नहीं आते हैं। वहीं दूसरी ओर कांग्रेस समर्थित अधिकांश पार्षद सेनेटाइज व्यवस्था को लेकर संतोष जता रहे हैं। गौरतलब है कि बांसवाड़ा शहर की बात करें तो यहां कुल 60 वार्ड हैं। इनमें से भाजपा समर्थित 21 पार्षद हैं, जबकि दो निर्दलीय हैं। बाकी सभी पार्षद कांग्रेस पार्टी से समर्थित हैं।

सैकड़ों लीटर सेनेटाइज का छिड़काव

बात सेनेटाइज व्यवस्था की करें तो शहर में 7 अप्रेल से छिड़काव कार्य जारी है। एक जेटिंग टैम्पो, एक फायर ब्रिगेड और एक सीवरेज जेटिंग ट्रक के सहयोग से क्षेत्रवार वाहनों का उपयोग हो रहा है। परिषद के अनुसार करीब 80 से 100 लीटर हाइड्रोक्लोराइड प्रतिदिन छिड़का जा रहा है। परिषद की व्यवस्था के तहत वाहन रवाना होने से पहले संबंधित क्षेत्र के पार्षद और जमादार को सूचित किया जाता है। इसके बाद ही मशीन मौके पर रवाना होती है।

व्यवस्था के जुड़े प्रभारी सलीम शेख की मानें तो पार्षद की इच्छानुसार ही परिषद कर्मचारी सहयोग कर रहे हैं। कहीं-कहीं पर जल्दबाजी हो सकती है। रिकॉर्ड के हिसाब से 95 प्रतिशत इलाकों को सेनेटाइज किया जा चुका है।

वार्ड 42 में पार्षद की ओर से स्वयं के खर्चें पर कराया जा रहा छिड़काव।
वार्ड 42 में पार्षद की ओर से स्वयं के खर्चें पर कराया जा रहा छिड़काव।

कहीं खुशी-कहीं गम

बात पार्षदों की करें तो वार्ड नंबर 42 के पार्षद भरत जोशी ने बताया कि उनके वार्ड में अब तक भी नगर परिषद का कोई वाहन छिड़काव करने नहीं आया है। वह स्वयं के स्तर पर लोगों के यहां छिड़काव करा रहे हैं। इसके लिए वह अहमदाबाद से आवश्यक सेनेटाइज मंगाते हैं। भाजपा समर्थित पार्षद धनेश रावत की मानें तो उनके वार्ड के कुछ हिस्सों में सेनिटाइज हुआ है। वहीं माही कॉलोनी वाला मुख्य हिस्सा अभी बाकी है। परिषद की ओर से शनिवार-रविवार का समय दिया गया है। दूसरी कांग्रेस समर्थित वार्ड 12 के पार्षद मुकेश जोशी एवं देवबाला राठौड़ ने बताया कि वह उनके वार्ड में हुए छिड़काव को लेकर संतुष्ट हैं। उनकी नजर में परिषद की ओर से सराहनीय प्रयास किए जा रहे हैं।

मिली है शिकायत

नगर सभापति जैनेंद्र त्रिवेदी ने कहा कि सेनेटाइज पर जा रहे वाहनों के कर्मचारियों की कुछ जगहों से शिकायतें मिली हैं। ऐसी जगहों पर दूसरी बार छिड़काव करा रहे हैं। उन्हें हर क्षेत्र को गाइडलाइन के हिसाब से सेनेटाइज करने काे पाबंद किया हुआ है। महामारी को लेकर सभी शहरवासी समान है। राजनीतिक आरोप प्रत्यारोप से हटकर मुसीबत की इस घड़ी में उनके प्रयास हमेशा समान रहेंगे।