पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Banswara
  • Born In Junagadh, Gujarat, Ranchodarai Has 13 Garbe Based Armor, Nagar Samajjan Sing These Garb Prominently In The Meeting Garbs.

नवरात्र विशेष:गुजरात के जूनागढ़ में जन्मे रणछोड़राय के कवच आधारित 13 गरबे हैं प्रमुख, बैठक गरबों में नागर समाजजन इन गरबों को प्रमुखता से गाते हैं

बांसवाड़ा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

नागर समाज के श्रद्धालुओं द्वारा नवरात्र के बैठक गरबों में गुजरात के जूनागढ़ में जन्मे रणछोड़राय के कवच आधारित 13 गरबों को प्रमुख रूप से गाया जाता है। वड़नगरा नागर समाज के दिगीश नागर ने बताया कि कवच आधारित रणछोड़ राय के तेरह गरबों में मां अंबा को ममता और ऊर्जा का प्रतिबिंब माना गया है। रणछोड़राय का जन्म गुजरात जूनागढ़ स्थित एक नागर परिवार में 20 अक्टूबर 1768 काे हुआ था। बाद में वे 1805 ई. में जूनागढ़ और जामनगर के दीवान बने।

राज्य सेवा से निवृत्त होने पर उन्होंने आसोज सुदी नवमी विक्रम संवत 1878 अर्थात 1821 ई. में कवच आधारित तेरह गरबों की रचना की थी। जिसमें उन्होंने भावार्थ में लिखा है कि मां भगवती जो उदयकाल में सूर्यमंडल की सी कांति धारण करने वाली है। सबकी सफल गति हो इसके लिए वर एवं अभय मुद्रा धारण किए हुए हैं। नागर ने बताया कि जिस प्रकार दुर्गा सप्तशती में 700 श्लोकों का प्रयोग किया गया है। जिसमें मारणम, माेहनम, उच्चाटन, स्तंभन, वशीकरण समाहित है। उसी प्रकार कवच के तेरह गरबों में कवि रणछाेड़राय ने उसी रूप में मां जगदंबा के स्वरूपों का वर्णन किया है, जाे कि चंडीपाठ का प्रतीक है।

वाणी से जिसका वर्णन किया जाए वो वांङ्गमयरूप कहा जाता है

नवरात्र में चंडी पाठ मां पराम्बा का प्रत्यक्ष वांङ्गमय स्वरूप है। वाणी से जिसका वर्णन किया जाए उसे वांङ्गमयरूप कहा जाता है। समस्त कष्टों को हरने वाली मां जगदंबा की उपासना नवरात्र में भिन्न रूपों में की जाती है। इस जगत में मां अंबा को परमतत्व और परम देवतम माना जाता है। आदि गुरु शंकराचार्य भी अनंत शक्ति की आराधना करते हुए कहते हैं कि हे भवानी तू जीवों और उपासकों के लिए परम गति और ऊर्जा का स्रोत है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें