पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अव्यवस्थाओं से अनजान अस्पताल प्रशासन:कोरोना सेंटर में शौचालयों के टूटे दरवाजे, गंदगी ऐसी कि सांस फूलने लगे, मरीज के फोटो वायरल करने पर जागे जिम्मेदार

बांसवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बांसवाड़ा जिला चिकित्सालय के कोरोना वार्ड में टूटा बाथरूम का दरवाजा। - Dainik Bhaskar
बांसवाड़ा जिला चिकित्सालय के कोरोना वार्ड में टूटा बाथरूम का दरवाजा।

जिला मुख्यालय के एकमात्र कोविड सेंटर (एमजी हॉस्पिटल) के कोरोना वार्ड में मरीजों का बीमारी के साथ यहां अव्यवस्थाओं से भी दम घुट रहा है। यहां के बाथरूम की हालत बुरी है। मरीजों को नीचे से टूटे और आधे खुले दरवाजों वाले शौचालयों में जाना पड़ रहा है।

वहीं शौचालयाें और स्नानघर की सफाई के नाम पर केवल शर्मसार करने वाले किस्से सुनने को मिल रहे हैं। आम रोगियों की यह पीड़ा अब वायरल हो रही है। भीतर के किसी मरीज की ओर से लिए गए फोटो अब सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बने हुए हैं।

ऐसे हाल इसलिए भी हैं कि कोरोना के भय से प्रशासनिक अमला वार्ड के भीतर जाने का जोखिम नहीं उठा रहा है। वहीं आम आदमी इस पीड़ा को जानते हुए भीतर तक जाने में असहाय है। भीतर भर्ती मरीज ने बताया कि उनकी समस्याओं को यहां सुनने वाला कोई नहीं है। शिकायतें करने पर सफाई व्यवस्था से जुड़े कर्मचारी उनसे अभद्रता तक कर देते हैं।

कोरोनावार्ड के एक बाथरूम में गंदगी।
कोरोनावार्ड के एक बाथरूम में गंदगी।

अच्छे माहौल पर सवाल
एक ओर जिला प्रशासन की ओर से ओझरिया बायपास स्थित निजी फार्म पर प्राकृतिक और बेहतर माहौल में मरीजों को स्वस्थ करने की दलीलें दी जा रही हैं। दूसरी ओर सामने मौजूद ज्वलंत समस्या को लेकर महात्मा गांधी राजकीय चिकित्सालयों की सुध लेने से यहां परहेज हो रहा है।

ऐसे में कई बार रोग विशेषज्ञों की सलाह के विपरीत भर्ती रोगियों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल असर पड़ रहा है। वर्तमान में अस्पताल के कोरोना वार्ड में कुल 215 बेड हैं, जो कि लगभग फुल हैं। वहीं पांच वार्ड को मिलाकर बनाए गए कोरोना वार्ड में फिलहाल पांच ही शौचालय हैं।

मरीज के लिए आवश्यक ऑक्सीजन सुविधा को लेकर यहां 146 पोइंट बनाए हुए हैं। वर्तमान में 1311 एक्टिव मरीज संख्या बनी हुई है, जबकि सभी मरीज बेड फुल बने हुए हैं। सरकारी रिकॉर्ड के हिसाब से यहां अब तक 63 रोगियों की मौत हो चुकी है।
हम तक पहुंचे वायरल फोटो
प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डा. रवि उपाध्याय ने बताया कि सुबह ही उनको वायरल हुए फोटो मिले हैं। इसकी पड़ताल में एक दरवाजा टूटा मिला है, जिसे शाम तक सही करा देंगे। भर्ती एक मरीज की ओर से (जिसने फोटो वायरल किए) ने शाैचालय में कमोड लगवाने का प्रस्ताव दिया है।

खबरें और भी हैं...