• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Banswara
  • CM Gehlot Announced The Names Of Color Rajasthan Photo Contest, Photography Of Dev Samnath Temple Tempted, Wildlife Photography Skills

फोटो प्रतियोगिता में कंसारा का चौथा नाम:पर्यटन विभाग की रंग राजस्थान फोटो प्रतियोगिता के नामों की CM ने की घोषणा, देव सोमनाथ मंदिर की फोटोग्राफी ने लुभाया

बांसवाड़ा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर भरत कंसारा। - Dainik Bhaskar
वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर भरत कंसारा।

प्रदेश के पर्यटन विभाग की ओर से हुई रंग राजस्थान फोटो प्रतियोगिता में बांसवाड़ा के वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफर भरत कंसारा के हुनर (फोटोग्राफी) को चौथा स्थान मिला है। विश्व पर्यटन दिवस के मौके पर सीएम अशोक गहलोत ने सोमवार को कंसारा के नाम की घोषणा की। प्रतियोगिता के लिए कुल 6 नाम चुने गए थे। इसमें पहले, दूसरे और तीसरे पुरस्कार के अलावा 3 सांत्वना पुरस्कार शामिल थे। सांत्वना सूची में कंसारा का नाम सबसे पहले था।

इस फोटो को प्रतियोगिता में मिला चौथा स्थान।
इस फोटो को प्रतियोगिता में मिला चौथा स्थान।

पर्यटन विभाग को कंसारा की डूंगरपुर स्थित देव सोमनाथ मंदिर की फोटोग्राफी पसंद आई है। इससे पहले प्रतियोगिता को लेकर एक महीने से ऑनलाइन प्रविष्ठियां ली जा रही थी। इसमें देश भर के फोटोग्राफर्स ने उनकी विशेष खूबियों वाली फोटोग्राफी शामिल की थी। कंसारा लंबे समय से बांसवाड़ा में पर्यटन को बढ़ावा देने वाले प्रयासों में लगे हुए हैं। बांसवाड़ा की विशेष खूबियों को दर्शाने वाले स्थलों की फोटोग्राफी को लेकर कंसारा ने अलग से पेज भी बनाया हुआ है। उनके इस पेज से करीब 25 हजार लोग जुड़े हुए भी हैं।

कार्यक्रम के माध्यम से सीएम गहलोत ने की नामों की घोषणा।
कार्यक्रम के माध्यम से सीएम गहलोत ने की नामों की घोषणा।

पहले भी मिला तीसरा स्थान
कंसारा की फोटोग्राफी को पिछले साल पर्यावरण दिवस पर भी सम्मान मिल चुका है। लॉकडाउन के दौरान कोयम्बटूर में हुई मोबाइल प्रतियोगिता में भी कंसारा ने तीसरा स्थान बनाया था। अमेरिका की शटर स्टॉक कंपनी अब तक कंसारा की करीब 395 तस्वीरों को बेच चुकी है। नामी कंपनी इन तस्वीरों से होने वाली इनकम का आधा हिस्सा कंसारा को भी देती है। कंसारा ने बताया कि वह बिजनेसमैन हैं, इसके बावजूद फोटोग्राफी के लिए अलग से समय निकालते हैं। यह उनका शौक है। कुछ साल पहले ही वह फोटोग्राफी के क्षेत्र में शौक के चलते आए थे।

खबरें और भी हैं...