मामला खुला तो धोखाधड़ी का केस दर्ज:फाइनेंस कंपनी का फील्ड ऑफिसर लापता जांच में पता चला 3.60 लाख रुपए भी ले गया

बांसवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मैनेजर ने पहले थाने में गुमशुदगी का मामला दर्ज कराया

शहर में स्थित तराशना फाइनेंशियल सर्विसेज लि. का फील्ड ऑफिसर चंद्रपाल सिंह पुत्र देवी सिंह ठाकुर निवासी अरनिया, मध्यप्रदेश ऑफिस के लॉकर में रखी 1 लाख 90 हजार रुपए से अधिक की नकदी सहित कुल 3.60 लाख रुपए लेकर फरार हाे गया।

पहले स्टाफ काे गुमराह करने के लिए कंपनी के बाेरिगामा सेंटर पर रखे रजिस्टर में उसके साथ काेई भी अनहोनी हाेने की आशंका लिख दी। तहकीकात में असल मामला उजागर हुआ ताे अब कंपनी की ओर से उसके खिलाफ काेतवाली में धाेखाधड़ी का मामला दर्ज कराया गया है। रिपोर्ट में बताया गया है कि आरोपी फील्ड ऑफिसर दस दिन पूर्व 26 अगस्त की सुबह बांसवाड़ा से कलेक्शन के लिए कलिंजरा क्षेत्र में गया था। उसके पास उस दिन के लाेन कलेक्शन की 30 हजार रुपए से अधिक की राशि भी थी।

शाम तक वह वापस ऑफिस नहीं लाैटा ताे ऑफिस स्टाफ काे चिंता हुई। उन्होंने फाेन पर संपर्क करने का प्रयास किया ताे मोबाइल स्विच ऑफ आ रहा था। काफी जगह उसकी खोजबीन के प्रयास िकए, लेकिन पता नहीं चला। उसने बारीगामा में जब कलेक्शन किया था ताे वहां स्थित सेंटर के रजिस्टर में इंग्लिश में लिखा कि उसके साथ बारीगामा में लड़ाई हुई है। मोबाइल भी स्विच ऑफ हाे गया है। उसके साथ काेई भी अनहोनी हाे सकती है। उसकी हेंड राइटिंग में लिखे इस नाेट से चिंतित साथी स्टाफकर्मियों ने अगले दिन 27 अगस्त काे कलिंजरा पुलिस थाने में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करा दी।

लाॅकर से नकदी गायब मिली ताे धाेखाधड़ी उजागर हुई
गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद स्टाफकर्मियों ने बांसवाड़ा ऑफिस में पहुंच वहां रखे लॉकर की चाबी की तलाश की। यह चाबी लापता हुए फील्ड ऑफिसर के पास ही रहती थी। काफी प्रयासों के बाद भी चाबी नहीं मिली ताे उन्होंने लॉकर ताेड़ दिया। लॉकर में रखी 1 लाख 90 हजार 500 रुपए की नकदी गायब थी। कंपनी ने जिले के अपने सभी सेंटरों से जांच कराई ताे पता चला कि उसने अलग-अलग कस्टमरों से प्राप्त की गई 81 हजार 530 रुपए की राशि भी कंपनी में जमा नहीं कराई थी। इसी तरह अन्य लाेगाें से लाेन दिलाने के नाम पर 58 हजार रुपए हड़पना भी उजागर हुआ। इस तरह कुल 3 लाख 60 हजार 150 रुपए का गबन सामने आया।

खबरें और भी हैं...