फर्जीवाड़े का मास्टर:नौकरी के लिए 10वीं-12वीं की मार्कशीट की ग्रेड बदली, थर्ड ग्रेड टीचर ने 30 साल की नौकरी में 1 करोड़ वेतन उठाया

बांसवाड़ा4 महीने पहलेलेखक: चिराग द्विवेदी
  • कॉपी लिंक
शिकायत होने पर वीआरएस के लिए कर दिया आवेदन - Dainik Bhaskar
शिकायत होने पर वीआरएस के लिए कर दिया आवेदन

अंधेर नगरी, चाैपट राजा...ऐसी ही कहानी है प्रारंभिक शिक्षा विभाग की। एक ग्रेड थर्ड शिक्षक फर्जी दस्तावेज से नौकरी लगा और 30 साल तक नौकरी करता, लेकिन किसी को कोई खबर नहीं हुई। शिक्षक एक करोड़ रुपए से ज्यादा की सैलरी व अन्य सुविधाएं शिक्षा विभाग से उठा चुका है। अब शिक्षक की शिकायत हुई, तब उसने रिटायरमेंट के 5 साल पहले स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति के लिए आवेदन कर दिया।

ग्रेड थर्ड शिक्षक (लेवल-प्रथम) लक्ष्मीनारायण सिंह राजकीय प्राथमिक स्कूल खरवाली (बांसवाड़ा) में कार्यरत हैं। वह मूलतया फूसपुरा (धौलपुर) का रहने वाला है। दैनिक भास्कर ने दस्तावेज की पड़ताल की तो पता चला कि 10वीं व 12वीं में थर्ड डिविजन, वह भी ग्रेस से पास लक्ष्मीनारायण की ये दोनों मार्कशीट ही फर्जी हैं। उसने अंकों से छेड़छाड़ कर शिक्षक की नौकरी हासिल की है।

शिक्षा विभाग ने लक्ष्मीनारायण की मार्कशीटों की जांच शुरू कर दी है। असल में, लक्ष्मीनारायण ने 10वीं व 12वीं की मार्कशीट्स जो जमा कराईं, उसमें खुद को फर्स्ट डिविजन से पास होना बताया है, जबकि अजमेर माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से हासिल की गई ऑरिजनल मार्कशीट में वह थर्ड ग्रेड डिविजन से पास है, वह भी ग्रेस लगने से पास हुआ है।

  • हमें शिक्षक लक्ष्मीनारायण के खिलाफ फर्जी मार्कशीट के आधार पर नौकरी हासिल करने की शिकायत मिली थी। हमने माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से भी दसवीं व 12वीं की वास्तविक मार्कशीट मांगी है। -शैलेंद्र भट्ट, डीईईओ प्रारंभिक, बांसवाड़ा
  • शिकायतकर्ता से मेरा जमीनी विवाद है। इसलिए वह झूठी शिकायत करता रहता है। जांच में सब सामने आ जाएगा। - लक्ष्मीनारायण, शिक्षक, लेवल-1
खबरें और भी हैं...