सरकार से बातचीत:पटवारियों की हड़ताल के कारण बांसवाड़ा के 161 पटवार सर्कल की गिरदावरी अटकी

बांसवाड़ा9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • केसीसी कार्ड, पेंशन, जाति प्रमाण पत्र, प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि से जुड़े काम नहीं हो रहे

प्रदेश में लंबे समय से पटवारी हड़ताल पर हैं, सरकार से बातचीत भी हर बार फैल हाे रही है। लेकिन पटवारियों और सरकार के बीच वार्ता सफल नहीं हाेने का खामियाजा अब किसानों काे भुगतना पड़ रहा है। इस बार रबी सीजन की फसलों की गिरदावरी अटक गई है। रबी की फसलों की गिरदावरी 1 फरवरी से 5 मार्च तक होती है, लेकिन इस बार पटवारियों की हड़ताल तथा अतिरिक्त पटवार हल्कों के बहिष्कार के कारण गिरदावरी प्रदेशभर में पूरी नहीं हाे पाई है।

बांसवाड़ा जिले की बात करें ताे 314 पटवार मंडल है। इसमें 161 के पास अतिरिक्त पटवार मंडल का कार्यभार संभालने काे दिया है। वैसे ताे पटवार मंडल सहित तहसील और एलआर शाखा में कार्यरत पटवारियों के कुल 356 पद स्वीकृत हैं, जिसमें 179 ही भरे हुए हैं और 177 पद खाली पड़े हुए हैं। यानि आधे पद रेवेन्यू डिपार्टमेंट में पटवारियों के खाली हैं। वहीं प्रदेश में 12 हजार 500 पटवार सर्किल हैं। इनमें से 7700 पटवार सर्किल भरे हुए हैं, जबकि करीब 4800 खाली है।

इन पटवार सर्किलों का अतिरिक्त कार्यभार अन्य पटवारियों को दिया है, लेकिन पटवारियों ने 15 जनवरी से अतिरिक्त पटवार सर्किलों का बहिष्कार कर रखा है। इस कारण बांसवाड़ा के 161 सहित राज्य के 4800 पटवार हल्कों में रबी सीजन की फसल गिरदावरी नहीं हो सकी। गिरदावरी के जरिए फसल का रकबा तथा उत्पादन की गणना की जाती है। इसी आधार पर सरकार अपनी योजनाएं भी तय करती है।

इसलिए हो रही है हड़ताल : पटवारी तीन सूत्रीय मांगों को लेकर हड़ताल कर रहे हैं। इनमें ग्रेड पे 3600 किए जाने, 9-18-27 के स्थान 7-14-21-28 का चयनित वेतनमान नहीं दिए जाने, नो वर्क नो पे के तहत सवाईमाधोपुर व कोटा संभाग के चारों जिलों के पटवारियों का बकाया वेतन दिए जाने की मांग कर रहे हैं। पिछले माह ही पटवारी पैदल मार्च कर जयपुर पहुंचे है तथा विधानसभा के पास धरने पर बैठे हैं। पटवारियों के विरोध के कारण अतिरिक्त पटवार सर्किलों में किसान केसीसी कार्ड, पेंशन, जाति प्रमाण पत्र, प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना के नए आवेदकों का सत्यापन सहित अन्य कार्य प्रभावित हैं। आवेदक चक्कर लगा रहे हैं। राजस्व मंडल ने सभी जिला कलेक्टरों को 2020-21 की गिरदावरी की रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए हैं। राजस्व मंडल की संयुक्त निदेशक ने इसके लिए सभी जिलों के कलेक्टरों को पत्र लिखा है। रबी फसल की जिंसों का क्षेत्रफल तथा उत्पादन की रिपोर्ट मांगी गई है।

पटवार संघ के अध्यक्ष गिरवरसिंह लबाना का कहना है कि पटवारी तीन सूत्रीय मांगों को लेकर पिछले 15 महीने से गांधीवादी तरीके से आन्दोलन कर रहे हैं, लेकिन सरकार सुनवाई नहीं कर रही है। अतिरिक्त पटवार सर्किलों के बहिष्कार के कारण इनकी गिरदावरी नहीं हो सकी है। गिरदावरी के साथ ही अन्य कार्य भी प्रभावित हैं। पटवारी आन्दोलन के चलते आमजन व किसान परेशान हैं लेकिन सरकार गहरी नींद में सोई है। सरकार ने मांगे नहीं मानी तो हम काम रोकने के साथ ही पूर्ण बहिष्कार का निर्णय लेंगे इसके लिए सरकार जिम्मेदार होगी।

खबरें और भी हैं...