पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विधायक थप्पड़ कांड:हैड कांस्टेबल महेंद्रनाथ ने कहा- मुझे तस्करी की आशंका, कुशलगढ़ विधायक खड़िया का भानजा पेट्राेलिंग कर रहा था

बांसवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हैड कांस्टेबल महेंद्रनाथ - Dainik Bhaskar
हैड कांस्टेबल महेंद्रनाथ
  • जांच के लिए आईजी काे पत्र लिखूंगा
  • विधायक की ओर से कांस्टेबल को थप्पड़ मारने के मामले में चौंकाने वाला खुलासा, सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल

कुशलगढ़ विधायक रमीला खड़िया की ओर से हैड कांस्टेबल महेंद्रनाथ काे थप्पड़ मारने के मामले में एक नया खुलासा हुआ है। हैड कांस्टेबल महेंद्रनाथ ने इस मामले में तस्करी की आशंका जताते हुए जांच के लिए उच्चाधिकारियाें काे पत्र लिखने की बात कही है।

विधायक पर थप्पड़ मारने के बाद मामला दर्ज होने के कारण इस मामले की जांच सीआईडी-सीबी कर रही है। 13 जून की रात को कुशलगढ़ के नागनाथ पुलिया के पास नाकाबंदी के दौरान विधायक के भानजे सुनील बारिया की बाइक रोकने पर विवाद हाे गया था। बाइक सवार सुनील की ओर से फोन करने के बाद विधायक खड़िया वहां पहुंची और कांस्टेबल को थप्पड़ मार दिया।

इस मामले में हैड कांस्टेबल ने विधायक समेत 7 जनों पर मामला दर्ज कराया। इस मामले में शुक्रवार को हैड कांस्टेबल का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। वीडियो वायरल होने के बाद विधायक रमीला खड़िया, ब्लॉक अध्यक्ष जयंतीलाल और विधायक के भानजे सुनील को फोन कर उनका पक्ष जानना चाहा लेकिन तीनों ने कॉल रिसीव नहीं किया।

इस मामले में लीपापोती हो सकती है, छोटे से मामले में एमएलए का आना संदेह पैदा करता है, वहां मौजूद सभी जनप्रतिनिधियों की कॉल डिटेल की जांच होनी चाहिए

मैंने जाे प्रकरण दर्ज कराया है उसमें मुझे आशंका है कि लीपापाेती हाे सकती है। मैं नाकाबंदी पाॅइंट पर था। 10 मिनट के दाैरान नाके पर सब लाेग इकट्ठा हाे जाते हैं। मुझे शक है कि यह तस्करी का मामला भी हाे सकता है। वह जाे बच्चा है जिसकी गाड़ी राेकी थी, वह पेट्राेलिंग कर रहा हाेगा। यह पूरा मामला तस्करी का मामला हाे सकता है। इससे पहले कवलिया मंडल अध्यक्ष की गाड़ी राेकी थी। जिसका चालान बनाने का प्रयास किया था। छाेटी-माेटी कार्रवाई कर रवाना कर दी। किसी की गाड़ी राेककर पूछताछ करते हैं। इतनी छाेटी सी बात में विधायक और बाकी जनप्रतिनिधियों का माैके पर आ जाना संदेह के दायरे में है। इसका भी मैं उच्चाधिकारियाें काे प्रार्थना पत्र लिखूंगा। जिसमें उनकी लाेकेशन और काॅल डिटेल की जांच की मांग करुंगा। जिससे यह पता चल सके कि उन्हाेंने घटना के समय किस-किस से बात की। यह जांच का विषय है। मुझे न्याय नहीं मिला ताे मैं हाई काेर्ट और सुप्रीम काेर्ट तक भी जाऊंगा। मानवाधिकार में लाेकसेवक का जाे अधिकार है उसे में लेकर रहूंगा। मैं किसी दबाव में आने वाला नहीं हूं। अपने न्याय के लिए लड़ता रहूंगा।
(जैसा हैड कांस्टेबल महेंद्रनाथ ने सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियों में कहा।)

खबरें और भी हैं...