पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Banswara
  • Illegal Pistol And Revolver Supplier, Banswara Udaipur And Chittorgarh Police Are On The Lookout, Fear Of Hiding In Madhya Pradesh

हथियार सप्लाई के सरगना सद्दाम की पुलिस को तलाश:बांसवाड़ा-उदयपुर और चित्तौड़गढ़ पुलिस अलग-अलग मामलों में ढूंढ रही, अवैध पिस्टल और रिवॉल्वर का है सप्लायर

बांसवाड़ा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बांसवाड़ा का कोतवाली थाना। - Dainik Bhaskar
बांसवाड़ा का कोतवाली थाना।

बांसवाड़ा के 8 युवाओं से बरामद अवैध हथियारों के मामले में पुलिस को अब मुख्य सरगना सद्दाम उर्फ अकरम की तलाश है। जो चित्तौड़गढ़ के निम्बाहेड़ा का रहने वाला है। जो हथियारों की अवैध सप्लाई से जुड़ा है। सद्दाम की तलाश बांसवाड़ा के साथ उदयपुर और चित्तौड़गढ़ पुलिस को भी है। तीन जिलों की पुलिस को अब तक सद्दाम के बारे में कोई सुराग नहीं जुटा सकी है।

सूत्रों की माने तो सद्दाम निम्बाहेड़ा से सटी मध्यप्रदेश की सीमा वाले नीमच जिले में हो सकता है। आरोपी सद्दाम पर उदयपुर के सूरजपोल थाने सहित दो थानों में अवैध हथियारों की सप्लाई के मामले दर्ज हैं। वहीं, एक मामला निम्बाहेड़ा में दर्ज है, जिसमें अवैध हथियार से हुई हत्या के मामले में सद्दाम वांछित है। वहीं, दूसरा मामला चित्तौड़गढ़ थाने में दर्ज है। अब बांसवाड़ा पुलिस ने भी आरोपी के खिलाफ दो अलग-अलग मामले दर्ज किए हैं।

इस मामले में बांसवाड़ा पुलिस पहले ही अली पुत्र सलीम हुसैन को रिमांड पर ले चुकी है, लेकिन पुलिस की सख्ती के बावजूद अली ने जुबान नहीं खोली। हालांकि, अली अभी न्यायिक हिरासत में है। मामले में अब तक उसकी जमानत नहीं हुई है।

अवैध हथियारों का अभियान
बांसवाड़ा एसपी कावेंद्रसिंह सागर की ओर से अवैध हथियारों को लेकर अभियान चलाया जा रहा है। जिसमें पुलिस ने अलग-अलग जगहों पर कार्रवाई कर 6 युवाओं से 7 पिस्टल, एक रिवॉल्वर और 8 जिंदा कारतूस बरामद किए थे। इस कड़ी में डूंगरपुर लिंक रोड पर नशा मुक्ति संचालक के तौर पर जोधपुर निवासी वीरेंद्र चौधरी को गिरफ्तार किया था। तब उसने पुलिस पूछताछ में आरोपी अली से हथियार खरीदना कबूल किया था। इससे पहले भी इसी मामले में अली का नाम सामने आया था। अली से पूछताछ के दौरान ही बांसवाड़ा पुलिस की टीम निम्बाहेड़ा में सद्दाम की तलाश करने गई थी। वहां पुलिस को सफलता तो नहीं मिली, लेकिन निंबाहेड़ा थाने में संपर्क के दौरान आरोपी का पिछला अपराधिक रिकॉर्ड हाथ लग गया।

कार्रवाई में ढिलाई
अब तक की जांच में मुख्य सरगना के तौर पर सामने आए सद्दाम की धरपकड़ को लेकर पुलिस में सुस्ती का माहौल है। इसकी एक वजह सद्दाम को पकड़ने की जिम्मेदारी अब एक थाने की नहीं बल्कि तीन जिलों की पुलिस को है। ऐसे में हर थाने के जिम्मेदार दूसरे जिले की पुलिस पर आश्रित हो गए हैं। पुलिस का मानना है कि आरोपी कहीं पर भी पकड़ा जाए। अदालती वारंट के जरिए उसे पूछताछ के लिए संबंधित थाने में लाया जाएगा। एक-दूसरे के भरोसे में अब धरपकड़ के प्रयास सुस्त होते दिख रहे हैं।

भेजी थी टीम
मामले में बांसवाड़ा कोतवाली प्रभारी रतनसिंह चौहान ने बताया कि पूरी जांच में अंतिम कड़ी के तौर पर सद्दाम का नाम सामने आया है। निंबाहेड़ा में उसके घर पर बांसवाड़ा पुलिस ने दबिश दी थी, लेकिन वह वहां नहीं मिला। उसकी धरपकड़ को लेकर रणनीति बनाई जा रही है।

खबरें और भी हैं...