नाराजगी / मार्च की बीमा-एरियर कटौती मई के वेतन से काटने का विरोध

X

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 07:36 AM IST

बांसवाड़ा. कोरोना महामारी के कारण राज्य में शिक्षकों के मार्च के वेतन में 3 से 5 दिनों का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में जमा करने के साथ ही 16 दिनों के वेतन, जीपीएफ, एसआईएफ की कटौती को भी स्थगित किया था। शिक्षकों को उम्मीद थी कि मार्च का स्थगित वेतन भुगतान मय बकाया जीपीएफ, एसआईएफ की कटौती कर शेष राशि दो माह बाद कर दिया जाएगा, किंतु राज्य बीमा व प्रावधायी निधि विभाग, वित्त विभाग के आदेश से मार्च के स्थगित वेतन का भुगतान किए बिना ही उस समय की एसआईएफ की कटौती मई के वेतन से करने के आदेश देने से शिक्षकों में आक्रोश है। 
शिक्षक संघ राष्ट्रीय बांसवाड़ा के जिलाध्यक्ष गमीरचंद पाटीदार ने बताया कि सरकार द्वारा 16 दिन के स्थगित वेतन के भुगतान के आदेश किए बिना ही मई के वेतन से एसआईएफ की कटौती करने से शिक्षकों पर दोहरी कटौती का भार पड़ेगा, जबकि मार्च के 16 दिनों के वेतन को स्थगित करने से शिक्षकों की घरेलू अर्थव्यवस्था पहले ही चौपट हो चुकी है। जिलामंत्री कमलसिंह सोलंकी ने बताया कि इतनी बड़ी रकम मार्च और मई कद दोगुनी कटौती करना न्यायसंगत नहीं है। जिला सभाध्यक्ष दिनेश मईड़ा ने भी इस प्रकार की कटौती करने को गलत ठहराया। शिक्षक संघ ने राष्ट्रीय ने मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजकर इस आदेश को निरस्त करवाकर राहत देने की मांग की है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना