भागवत कथा:माव भागवत में एकादशी व्रत का महत्व बताया

बांसवाड़ा9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रोहिड़ा में भागवत कथा, पूर्णाहुति कार्यक्रम में कल मिलेगा महंत अच्युतानंदजी का सान्निध्य

गढ़ी उपखंड के रोहिड़ा में गुजराती पाटीदार समाज के तत्वावधान में चल रही माव भागवत कथा में रविवार को कथावाचक शंकरलाल शेषपुर ने एकादशी व्रत का महत्व बताया। कथावाचक ने कहा कि एकादशी व्रत सबसे पवित्र व्रत है। इस व्रत को करने से जीवन की सभी समस्याओं का निराकरण होता है। उन्होंने कहा कि जीवन में अच्छे भावों का होना आवश्यक है। जैसा भाव जैसा कल्याण होता है। रविवार को पोथी पूजन और माव भागवत कथा के चोपड़े का पूजन मुख्य यजमान पीयूष मानजी पाटीदार ने किया। आरती का लाभ शांतिलाल उपाध्याय परिवार ने लिया। माव कथा सुनने के लिए कृषि बोर्ड के पूर्व चेयरमैन राज्य मंत्री रूपेंग भाई पाटीदार वजाखरा, मोहनलाल दवे पिछोड़ा, कोदर, रतनजी, मानजी-रतनी आदि अतिथियों ने चोपड़े के दर्शन और पूजा का लाभ लिया। उपसरपंच विनोद उपाध्याय ने बताया कि 16 मार्च को कथा की पूर्णाहुति काय्रक्रम में बेणेश्वरधाम के महंत अच्युतानंद महाराज का सान्निध्य मिलेगा।

खबरें और भी हैं...