पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

21 लाख की आबादी पर 140 मरीज का ऑक्सीजन विकल्प:राज्यमंत्री बामनिया बोले, नए प्लांट से दूर हो जाएगी ऑक्सीजन की किल्लत, 15 दिन में तैयार हो जाएगा 180 लीटर प्रति मिनट क्षमता का प्लांट

बांसवाड़ा11 दिन पहले
मीडिया से बात करते मंत्री।

बांसवाड़ा। जानकर आश्चर्य होगा ! करीब 21 लाख की आबादी वाले बांसवाड़ा जिले में आने वाले कुछ दिनों बाद केवल 140 मरीजों को 24 घंटे ऑक्सीजन सुविधा का विकल्प मिल पाएगा। इसमें भी बांसवाड़ा जिला चिकित्सालय में 180 काेरोना संक्रमित मरीज पहले से भर्ती हैं, जिनमें 160 के करीब अभी ऑक्सीजन पर हैं। बावजूद इसके बांसवाड़ा विधायक और टीएडी राज्यमंत्री अर्जुन बामनिया यह कहते नहीं थक रहे कि आने वाले दिनों में बांसवाड़ा जिले से ऑक्सीजन किल्लत दूर हो जाएगी।

मंगलवार को पत्रकारों को संबोधित करते हुए राज्यमंत्री ने कहा कि सिक्योर मीटर कंपनी की ओर से बांसवाड़ा जिला अस्पताल में नया ऑक्सीजन प्लांट लगाया जा रहा है, जिससे आने वाले समय में मरीजों के बीच ऑक्सीजन किल्ल्त दूर हो जाएगी। हकीकत यह है कि यहां प्रतिदिन सैकड़ों की तादाद में कोरोना संक्रमित मिल रहे हैं। वर्तमान में यहां 160 लीटर प्रति घंटा के हिसाब से ऑक्सीजन बनाने वाला प्लांट मौजूद है, जबकि 510 के करीब ऑक्सीजन सिलेंडर मौजूद हैं।

जिला अस्पताल में वर्तमान संचालित ऑक्सीजन प्लांट।
जिला अस्पताल में वर्तमान संचालित ऑक्सीजन प्लांट।

कोविड सेंटर के ऐसे हाल

अब हकीकत पर आते हैं। यहां महात्मा गांधी राजकीय चिकित्सालय में मौजूद प्लांट में 160 लीटर प्रति मिनट क्षमता से ऑक्सीजन बन रही है। यानी कि 9 हजार 600 लीटर प्रति घंटे के हिसाब से यह प्लांट अभी 2 लाख 30 हजार 4 सौ लीटर ऑक्सीजन का उत्पादन कर रहा है। इसी तरह सिक्योर मीटर कंपनी की ओर से आगामी 15 मई तक नया प्लांट लगेगा, जिसकी क्षमता करीब 180 लीटर प्रति मिनट बताई जा रही है। यानी इस हिसाब से एक घंटे में 10 हजार 800 लीटर और 24 घंटे में 2 लाख 59 हजार 200 लीटर ऑक्सीजन बनेगी। यानी आगामी दिनों में प्लांट के माध्यम कुल 4 लाख 89 हजार 600 लीटर ऑक्सीजन मिल सकेगी।

निर्माणाधीन नया ऑक्सीजन प्लांट, जिसके 15 मई से संचालन की उम्मीद है।
निर्माणाधीन नया ऑक्सीजन प्लांट, जिसके 15 मई से संचालन की उम्मीद है।

विधायक मद के सिलेंडर जोड़कर ऑक्सीजन अस्पताल के रिकॉर्ड के अनुसार उनके खाते में 260 ऑक्सीजन सिलेंडर थे। इसमें जिला प्रशासन की ओर से विधायक मद से मंगाए गए 250 सिलेंडर आगामी दिनों में जुड़ जाएंगे। इस हिसाब से आने वाले दिनों में हॉस्पिटल के पास कुल 510 सिलेंडर की क्षमता हो जाएगी। इसमें एक सिलेंडर की क्षमता 6 हजार लीटर की मानी जाए तो 250 सिलेंडर्स में 15 लाख लीटर ऑक्सीजन यहां मौजूद रहेगी। गणना में 250 सिलेंडर ही जोड़े गए हैं क्योकि आधे सिलेंडर यहां से उदयपुर और निंबाहेड़ा भरने के लिए ट्रक आया-जाया करेंगे। अब प्लांट और सिलेंडर में मौजूद ऑक्सीजन करीब 19 लाख 89 हजार 6 सौ लीटर ऑक्सीजन कुछ दिनों बाद हॉस्पिटल के बेड़े में होगी।

खपत ऊंट के मुंह में जीरा से भी कम

अब कोरोनाकाल में इंफेक्शन के साथ आने वाले हर मरीज का औसत सेचुरेशन करीब 80 से 90 के बीच आ रहा है। ऐसे में डॉक्टर्स परामर्श की स्वस्थ प्रक्रिया के तहत मरीज को 10 लीटर प्रति मिनट के हिसाब से ऑक्सीजन की आवश्यकता पड़ेगी। इस हिसाब से एक मरीज एक घंटे में 6 सौ और 24 घंटे में 14 हजार 4 सौ लीटर ऑक्सीजन ग्रहण करेगा। इस हिसाब से जोड़े तो मौजूद ऑक्सीजन व्यवस्था का लाभ 138 लोगों को स्वस्थ तौर ऑक्सीजन मुहैया हो पाएगी। चिंता इस बात की है कि आइआइटी कानपुर के वैज्ञानिकों की ओर से 8 मई और 15 मई तक मरीजों की संख्या में दोगुना इजाफा होने की चेतावनी दी जा रही है। ऐसे में मरीज भार बढ़ जाता है तो बांसवाड़ा की स्थिति कैसे संभलेगी।

अभी 146 पोइंट

जिला कोविड प्रभारी डॉ. दीपक निनामा के अनुसार अभी प्लांट और सिलेंडर हर स्तर पर हम अभी करीब 146 पोइंट के माध्यम से मरीज को ऑक्सीजन की सप्लाई दे रहे हैं। उपलब्धता के हिसाब से मरीजों के बीच इस सप्लाई का सेटलमेंट करते रहते हैं। जरूरत के हिसाब से किसी को कम और किसी को ज्यादा देकर जरूरतों को पूरा कर रहे हैं। नए प्लांट से क्षमता बढ़ेगी, लेकिन स्थिति बहुत बेहतर हो जाए। ऐसा कहना मुश्किल भरा है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

और पढ़ें