14 साल सेवाएं दीं, अब तो सुने सरकार:नियमित करने की मांग को लेकर मनरेगा कर्मचारी संघ का धरना शुरू

बांसवाड़ा6 महीने पहले
जिला परिषद के सामने धरने पर बैठे नरेगा कार्मिक।

जिला परिषद के सामने महात्मा गांधी नरेगा कार्मिक संघ ने अपनी मांगों के लिए गुरुवार से फिर धरना शुरू किया। ड्यूटी छोड़कर धरने पर बैठे कर्मचारी सरकार से न्याय मांग रहे हैं। वह कह रहे हैं कि उन्होंने 14 साल तक योजना में सेवाएं दी है। अब तो उनका वनवास खत्म होना चाहिए। सरकार को योजना से जुड़े सभी कैडर के कर्मचारियों को परमानेंट करना होगा। वह हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। संगठन के प्रतिनिधियों का आरोप है कि उनका यह धरना सरकार के वादा पूरा नहीं करने तक जारी रहेगा। उन्होंने कहा कि सेवा भावना में हमारी ओर से कोई कमी नहीं है। आर्थिक तंगी के बावजूद उन्होंने सरकारी काम को पूरी निष्ठा से किया है। प्रतिनिधि JTA लोकेश पुरोहित ने कहा कि सरकार की ओर से पहले भी चार बार आश्वासन मिल चुके हैं, लेकिन अब तक उनकी मांगों पर गौर नहीं किया गया है। ऐसे में उनका भविष्य अंधकार में बना हुआ है। नियमित सेवाएं देने के बाद इस नौकरी पर स्थायी किया जाना उनका अधिकार है। वह सभी नरेगा कर्मचारी इसी अधिकार की लड़ाई लड़ रहे हैं। सत्ता में आने से पहले कांग्रेस पार्टी ने चुनावी वादे में भी नरेगा कर्मचारियां को स्थायी करने का वादा किया था। उल्लेखनीय है कि पिछले साल् भी इसी समय इन कर्मचारियों ने धरना दिया था।