बरसात ने नगर परिषद की तैयारी को किया क्लीन बोल्ड:गलियों में भरा पानी, घंटों बिजली रही गुल

बांसवाड़ा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुष्पानगर में पेयजल लाइन के लिए खोदी गई सड़क की मरम्मत नहीं हुई। इससे सड़क पर भरा पानी। - Dainik Bhaskar
पुष्पानगर में पेयजल लाइन के लिए खोदी गई सड़क की मरम्मत नहीं हुई। इससे सड़क पर भरा पानी।

मानसून से पहले बरसात ने नगर परिषद की तैयारियों के दावों को क्लीन बोल्ड कर दिया है। एक दिन पहले हुई बरसात में शहर की सभी गलियां ताल-तलैया बन गई। पूरे शहर में रूड़िप की ओर से खोदी गई सड़कों में पानी भरने से कीचड़ हो गया। सड़कों का कीचड़ बहकर नालियों में पहुंचा, जहां मिट्‌टी से नालियां भी चोक हो गई। लेकिन, नगर परिषद ने बीते 24 घंटे के दौरान इस बरसात से सबक नहीं लिया। सड़कों की मरम्मत से लेकर मानसून पूर्व आवश्यक कदम उठाने की कोई रूपरेखा नहीं बनाई।

जिला कलेक्ट्रेट की दीवार के समीप के हाल।
जिला कलेक्ट्रेट की दीवार के समीप के हाल।

इधर, नगर परिषद के साथ ही अजमेर डिस्कॉम भी पहली बरसात में आउट हो गया। निजी ठेका एजेंसी सिक्योर मीटर को जिम्मेदार देकर अभियंताओं ने उनके फोन बंद कर लिए। एक बरसात के बाद यहां शहर के बहुत से इलाकों की बिजली गुल हो गई। कई जगहों पर तो 8 घंटे बाद बिजली पहुंच पाई। बिजली आपूर्ति बाधित होने से कई मोहल्लों को पीने का पानी नहीं मिला। कहीं पीएचईडी पानी नहीं पहुंचा सका तो बिना जलापूर्ति सप्लाई वाले इलाकों में लोग बोरिंग से पानी काम नहीं ले सकें।

सुभाष नगर में खुदाई वाले हिस्से की मिट्‌टी सड़कों और नालियों में बही।
सुभाष नगर में खुदाई वाले हिस्से की मिट्‌टी सड़कों और नालियों में बही।

पूरे शहर में 128 सड़कें खोदी
नगर परिषद के 60 वार्डों की करीब 128 सड़कों पर रूड़िप (RUDIP) काम कर रही है। यहां सीवरेज लाइनें बिछाई जा रही हैं तो कहीं पर जलापूर्ति लाइनों के लिए सड़कों को खोदा जा रहा है। काम तो लंबा चलना है, लेकिन निर्माण एजेंसी की ओर से लोगों की असुविधाओं को अनदेखा किया जा रहा है इसलिए लाइनें बिछाने के बाद भी अनुबंध शर्तों के तहत रूड़िप को ऐसी सड़कों को तत्काल नया करना है। अगर, सड़क 20 मीटर से ज्यादा चौड़ी है तो खोदे गए हिस्से पर ही डामर करना है, लेकिन अनदेखी के चलते खुदी हुई सड़कों की किसी स्तर पर सुध नहीं ली जा रही। वर्तमान में करीब 60 प्रतिशत ऐसे इलाके हैं, जहां खोदी गई सड़कों को दुरस्त नहीं किया गया है।

जिला अस्पताल परिसर में वागड़ धर्मशाला में घुसा पानी।
जिला अस्पताल परिसर में वागड़ धर्मशाला में घुसा पानी।

सबसे पहले हाउसिंग बोर्ड दुरस्त
रूड़िप के कामों के बीच सबसे पहले हाउसिंग बोर्ड इलाके में सड़कों की सुध ली गई है। इसकी वजह ये नगर सभापति जैनेंद्र त्रिवेदी का वार्ड भी है। इसके अलावा पॉश कॉलोनियों में मोहन कॉलोनी की सुध ली गई। इसके अलावा पूरे शहर में पुष्पा नगर, भारत नगर, सुभाष नगर, बंजारा कॉलोनी, प्रगति नगर, इंदिरा कॉलोनी, बाहुबली कॉलोनी, राजतलाब, कालिका माता, पृथ्वीगंज, शहर के बीच में पाला रोड वगैरह ऐसी जगह हैं, जहां सड़कें खुदी होने के कारण बरसाती पानी से तलैया जैसे हालात बन गए हैं।

दाहोद हाइवे पर बाहुबली कॉलोनी के सामने की सड़क।
दाहोद हाइवे पर बाहुबली कॉलोनी के सामने की सड़क।

सरकारी ने बिगाड़ा प्राइवेट ढर्रा
शहर की बिजली व्यवस्था सिक्योर मीटर नाम की कंपनी को ठेके पर सौंपी गई है। गुणवत्ता वाली बिजली देने के दावे यहां हवा हो गए, जब बरसात के बाद छंगाई के अभाव में पेड़ बिजली लाइनों पर गिर गए। कस्टम, पुष्पा नगर, सिविल लाइन, भारत नगर, कृष्णा नगर जैसे इलाकों में 8 घंटे बिजली गुल रही। खास तो ये देखने में आया कि डिस्कॉम के Aen, Xen और SE के सरकारी CUG नंबर बंद आते रहे। कुछ घंटों बाद बातचीत में Xen एमडी चौधरी ने बताया कि वह उदयपुर यात्रा पर हैं, SE बीमार हैं और AEN को वो सावधानी बरतने के लिए बोलेंगे।

जिला अस्पताल के भीतर के हाल।
जिला अस्पताल के भीतर के हाल।

बरसात के पहले सब
नगर सभापति जैनेंद्र त्रिवेदी ने कहा कि बरसात से पहले वह पुष्पा नगर, भारत नगर सहित अन्य इलाकों की सड़कों को दुरस्त करवाएंगे। रूड़िप के काम की भी मॉनिटरिंग होगी। आमजन परेशान न हो। इसका ध्यान रखेंगे।