पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सवा करोड़ के ड्रग्स का मामला:मुंबई से निरंजन शाह और अमित जैन चला रहे थे ड्रग्स काराेबार, नाथद्वारा का शैतान सप्लायर

बांसवाड़ा10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बांसवाड़ा. खांदू कॉलोनी में ड्रम व कट्‌टों में मिली थी ड्रग्स। फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
बांसवाड़ा. खांदू कॉलोनी में ड्रम व कट्‌टों में मिली थी ड्रग्स। फाइल फोटो

शहर में एक मार्च को पकड़ी गई करीब 1.25 करोड़ की अल्प्राजोलम व एमडी ड्रग्स और अफीम के मामले में बांसवाड़ा और मुंबई से जुड़े दो बड़े कारोबारियों का भी हाथ था। यह खुलासा हुआ है एटीएस के रिकॉर्ड से। हालांकि एटीएस ने इनके नाम उजागर नहीं किए है, लेकिन भास्कर को कुछ ऐसे दस्तावेज हाथ लगे हैं, जिनमें साफ तौर से प्रमाणित है कि ड्रग्स कारोबार के तार बांसवाड़ा और मुंबई के बड़े कारोबारियों से जुड़े हुए हैं।

यह लोग ही ड्रग्स कारोबार को चलाते थे और बांसवाड़ा, डूंगरपुर, उदयपुर सहित अन्य आसपास के जिलों में पहुंचाते हैं। रिकॉर्ड में यह भी सामने आया कि 1 मार्च को गिरफ्तार आरोपी सलीम व परवेज पिछले काफी समय से मादक पदार्थ के कारोबार में लगे हुए हैं। अफीम सप्लायर सादिक के खिलाफ एटीएस ने पिछले दिनाें कोर्ट में चालान पेश कर दिया, लेकिन अल्प्राजाेलाम सप्लाई करने वाले बड़े आराेपी अभी तक एटीएस की पकड़ से दूर हैं।

सरकारी कर्मचारी है आरोपी सलीम, अनुकंपा पर लगा था
आरोपी सलीम की ओर से दी गई सूचना के आधार पर पुलिस ने इंदौर भी छापा मारा था। इस मामले में भरतपुर गोल्डन ट्रांसपोर्ट और एमके ट्रांसपोर्ट कंपनी से भी पूछताछ की गई थी। एमके ट्रांसपोर्ट कंपनी के मालिक को धारा 91 का नोटिस भी जारी किया था। आरोपी सलीम सरकारी कर्मचारी है, उसकी अनुकंपा नियुक्ति चिकित्सा विभाग में चालक पद पर हुई थी। पुलिस ने उसका नियुक्ति आदेश, स्थानांतरण आदेश सहित अन्य जानकारियां हासिल करने के लिए चिकित्सा विभाग को पत्र लिखा था।

इसलिए प्रतिबंधित अल्प्राजाेलम ड्रग्स
अल्प्राजाेलम ड्रग्स का इस्तेमाल नशीली चीज में किया जाता है। कुछ हद तक नींद की दवाई बनाने में भी किया जाता है। इसका इसर इतना ज्यादा हाेता है कि दवा में भी इसकी कुछ मिलीग्राम ही मात्रा इस्तेमाल में ली जाती है। नशीली चीजें की तस्करी करने वाले बदमाश इसका इस्तेमाल स्मैक और दूसरी नशीली चीजें बनाने में करते हैं।

नेटवर्क... मूलत: खांदू कॉलोनी का ही रहने वाला है अमित, गिरफ्तार आरोपी परवेज व सलीम भी दोनों आरोपी सलीम व परवेज अल्प्राजोलम व एमडी ड्रग्स मुंबई में रहने वाले अमित जैन और निरंजन शाह से लेकर अमित जैन के कहे अनुसार आगे शैतान सिंह उर्फ राजू को भेजते थे। अमित जैन मुलत: बांसवाड़ा की खांदू कॉलोनी का रहने वाला है। वह अभी मुंबई में रहता है। शैतान सिंह नाथद्वारा तहसील के अड़गेला-उथानोल गांव का रहने वाला है। निरंजन शाह मूलत: मुंबई का है। आरोपियों ने एमडी ड्रग्स रतलाम से खरीदी थी।

परवेज ने सादिक से खरीदी थी आधा किलो अफीम
आरोपी सलीम से 270 ग्राम अफीम बरामद की गई थी। आरोपी परवेज ने प्रतापगढ़ जिले के भैरू खांखरा रोड, कोटड़ी निवासी सादिक खान से एक माह पहले भी 500 ग्राम अफीम खरीदी थी। सादिक पर पहले भी दो अपराधिक मामले दर्ज हैं। वह अवैध मादक पदार्थ के व्यापार में पहले से काम कर रहा था।

पाउडर इतना नशीला कि बाेरे में भरते समय 3 जवानाें काे आने लगी नींद, छुट्‌टी लेनी पड़ी
परवेज के घर से बरामद प्रतिबंधित ड्रग्स अल्प्राजाेलम इतना नशीला है कि जब जवानाें ने इसका बाेरा खाेला और ताेलने के लिए दूसरे बाेरे में भरने लगे ताे बुरादा उड़ने पर ही तीन जवानाें की तबीयत बिगड़ गई। एक जवान काे ताे उल्टियां हाेने लग गई, जबकि दाे का सिर चकराने लगा। एक जवान ने बताया कि महज पाउडर थाेड़ा उड़ने पर ही खतरनाक नशा चढ़ने लगा था। इसके बाद मुंह ढककर और हाथाें में मास्क पहनकर पाउडर भरा।

दाे जवानाें काे ताे कार्रवाई के बाद एक दिन की छुट्टी तक दी गई। शहर पुलिस, एसओजी और एटीएस ने संयुक्त रूप से 1 मार्च देर रात काे खांदू काॅलाेनी स्थित आराेपी परवेज के घर दबिश देकर 101.8 किलाे अल्प्राजाेलम व एमडी ड्रग्स और 270 ग्राम अफीम बरामद की थी। जब्त ड्रग्स की बाजार कीमत भी 1.25 कराेड़ आंकी जा रही है। दरअसल शहर पुलिस काे खबर मिली थी परवेज और सलीम नाम के दाे युवक अफीम और अल्प्राजाेलम ड्रग्स का व्यापार कर रहे है। इस पर टीम ने दबिश देना तय किया। 28 फरवरी की रात 9:52 बजे टीम थाने से रवाना हाे रही थी कि, उसी समय एसओजी भी थाने पहुंची थी।

खबरें और भी हैं...