पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोविड वार्डों का भास्कर स्टिंग:मरीज बाेले- बेवजह डर रहे लाेग, कोरोना जांच कराएं, हमारे अस्पताल में बेहतर सुविधाएं

बांसवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • भास्कर के दाे रिपाेर्टराें ने पीपीई किट पहनकर किया एमजीएच के काेराेना वार्ड का दाैरा

(प्रियंक भट्‌ट/चिराग द्विवेदी) जिले में अब तक 1878 लाेगाें काे काेराेना अब तक संक्रमित कर चुका है। जबकि इससे मरने वालाें की तादाद 48 तक पहुंच गई है। पिछले कुछ दिनाें से संक्रमितों की संख्या में गिरावट आई है लेकिन यह भी देखने काे मिल रहा है कि यहां के ज्यादातर काेराेना संक्रमित पड़ाैसी गुजरात के अस्पतालों का रुख कर रहे है। इसके पीछे यहां के सरकारी अस्पतालों में पिछले दिनों काेराेना वार्डाें से लगातार आ रही शिकायतों काे भी एक वजह बताया जा रहा है।

हमें पता है कि काेराेना संक्रमण जानलेवा है फिर भी बीमारों की सेहत और सुविधाओं की खातिर हमने काेविड-19 वार्डाें का दाैरा करना तय किया। इसी के तहत भास्कर के दाे रिपोर्टरों ने शुक्रवार काे एमजी अस्पताल के दाे काेराेना वार्डाें का जायजा लिया। संवाददाताओं ने न सिर्फ वार्ड के बंदाेबस्त देखे बल्कि संक्रमितों से भी बातचीत की। हम इस जानलेवा महामारी की गंभीरता काे समझते है। ऐसे में हमारे संवाददाताओं ने विशेषज्ञ डॉक्टरों की टीम के साथ पीपीई कीट पहनकर और तय प्राेटाेकाॅल का पूरा ख्याल रखा।

करीब 30 मिनट तक वार्ड में मरीजाें के बीच गुजारकर यह जानने की काेशिश की कि वार्डाें में मरीज व्यवस्थाओंं से संतुष्ट है या नहीं।

दाेपहर 1:15 बजे दाेनाें संवाददाता डॉक्टरों की एक टीम के साथ काेराेना के उस वार्ड में पहुंचे जहां काेराेना के लक्षण विहीन संक्रमिताें काे भर्ती किया गया था। यहां 50-50 बैड की क्षमता वाले दाे वार्ड बने हुए है। क्याेंिक, अब हाेम क्वारेंटीन की छूट मिल चुकी है इसलिए लक्षण विहीन वाले मरीजों का एक वार्ड पूरी तरह खाली हाे चुका है। फिर भी कुछ लाेग एहतियातन अस्पताल में ही भर्ती हाेना ज्यादा मुनासिब समझते है।

इस वार्ड में तीन युवक भर्ती थे। इसमें दाे बिहार के थे जाे यहां निजी कंपनी में कार्यरत है जबकि एक युवक भचड़िया निवासी था। तीनों से वार्ड की सुविधाएं संतोषप्रद बताई। 6 दिन से भर्ती एक युवक ने कहा कि घर का खाना खा रहे है। डाॅक्टर भी बराबर जांच करते है। वार्ड में हमें किसी तरह की काेई परेशानी नहीं है। हालांकि,की इस वार्ड में लगी एलईटी बंद हाेने पर नाराजगी जताई।

लक्षण वाले वार्ड में सिर्फ चार मरीज भर्ती, बाेले - सब ठीक
इसके बाद संवाददाता काेराेना के लक्षण वाले मरीजाें के वार्ड में पहुंचे। जहां शुक्रवार काे केवल 4 मरीज ही भर्ती थे। जहां शहर निवासी एक बुजुर्ग 8 दिन से भर्ती थे। बुजुर्ग से जब संवाददाता ने बात की ताे बाेला कि सुविधा ठीक है। बेवजह किसी की शिकायत नहीं करूंगा। लेकिन, वार्ड में पत्रकार आए यह देखकर अच्छ लगा। बुजुर्ग ने बताया कि पहले से तबीयत भी ठीक है।

पृथ्वीगंज निवासी एक अधेड़ ने बताया कि सांस लेने में थाेड़ी तकलीफ है। लेकिन, पहले से बेहतर हालत है। घर का खाना आ रहा है। किसी तरह की काेई परेशानी नहीं है। पीने का पानी और टॉयलेट की सफाई के सवाल भी भी चाराें मरीजाें ने संतुष्टि जताई। इसके बाद हर बैड तक गैस पाइप से ऑक्सीजन के दावे की भी जांच की।

लौटते समय पसीने में सराबोर हो गया, चश्मे पर भी भांप

संवाददाता चिराग द्विवेदी बताते है कि जब मैं लौट रहा था तब मेरा पूरा शरीर पसीने से भीग चुका था। गॉगल्स पर भी पसीने की भाप जम गई थी। दिमाग सुन्न सा हो गया था। डाॅ. जिमेश पंड्या ने बताया कि हमें काेराेना संक्रमण का डर नहीं बल्कि डर इससे किसी भी एक मरीज की जान जाने से है। कई बार इस संक्रमण से जब काेई दम ताेड़ता है ताे कभी-कभी रात काे नींद तक नहीं आती है। लेकिन हमें खुशी है हमनें ज्यादा से ज्यादा मरीजाें काे पूरी तरह ठीक करके घर भेजा।

एयर टाइट किट, 5वें मिनट में ही छूटने लगा पसीना
बेहद जोखिम वाली इस जगह आने के बाद संवाददाता प्रियंक भट्ट बताते है कि काेराेना वार्ड का दाैरा करने की दाेनाें संवाददाताओंं की उत्सुकता को जानकार सभी डॉक्टर भी हैरान थे। डाॅक्टर ने मुझे और साथी काे पीपीई किट पहनाई, विशेष प्रकार के गॉगल्स और हाथों में ग्लव्स पहनने को दिए। ये पूरी किट करीब-करीब एयरटाइट थी। इसे पहनने के बाद पांच ‌मिनट में ही हमारे पसीने छूटने लगे। डाॅक्टर ने मेरी स्थिति भांप ली- हल्की मुस्कुराहट के साथ बाेले कि हम लगातार बिना किसी ब्रेक के 7 से 8 घंटे ये सूट पहन कर काम करते हैं।

यह पीपीई सूट पहनने वाले कोरोना योद्धाओं को रोजाना 1.5 लीटर पसीना निकलता है। इतना पसीना निकलने से शरीर थक कर चूर हो जाता है। हालांकि, माैजूद डाॅक्टर अश्विन पाटीदार, डाॅ. जिमेश पंड्या और डाॅ. मयंक शर्मा ने इसे महज अपना काम बताते हुए पूरी तरह आत्मविश्वास में दिखे। हमारे साथ नर्सिंग कर्मी अनिल जाेशी, लाेकेश और संदीप भी माैजूद रहे, जाे हमें प्राेटाेकाॅल बताते रहे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- यह समय विवेक और चतुराई से काम लेने का है। आपके पिछले कुछ समय से रुके हुए व अटके हुए काम पूरे होंगे। संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी समस्या का भी समाधान निकलेगा। अगर कोई वाहन खरीदने क...

और पढ़ें