ऑक्सीजनरोपण:200 फीट ऊंची सरवन डेरी पहाड़ियों पर 5 गांवों के लोगों ने 80 दिन में लगा दिए 25 हजार पौधे

बांसवाड़ा4 महीने पहलेलेखक: प्रियंक भट्‌ट
  • कॉपी लिंक
ड्रोन साभार : भुवनेश द्विवेदी - Dainik Bhaskar
ड्रोन साभार : भुवनेश द्विवेदी
  • आज हरियाली अमावस्या पर देखिए-कैसे गांवों के लोग प्रकृति के करीब आ रहे हैं

आज हरियाली अमावस्या है। यह त्योहर सावन में प्रकृति पर आई बहार की खुशियों का जश्न है। इसका मुख्य उद्देश्य लोगों को प्रकृति के करीब लाना है। इसलिए आज आपको शहर से 28 किमी दूर सरवन डेरी की 200 फीट ऊंची पहाड़ी पर लेकर चलेंगे। यहां 5 गांवों के लोगों ने 80 दिन में 1500 हैक्ट्रेयर जमीन पर 25 हजार गड्‌ढ़े खोदकर पौधे लगा दिए।

वन विभाग की इस पहल से चारों तरफ हरियाली ही हरियाली दिखाई देने लगेगी। इस काम की शुरुआत 15 मार्च को हुई और 2 जून को इसे पूरा कर लिया गया। यहां बांस, आंवला, खैर, अर्जुन, जामून, बैर, नींबू, रतनजाेत सहित 14 अन्य प्रजातियाें के पाैधे लगाए गए हैं। विभाग में रखरखाव की जिम्मेदारी ग्रामीणों को दी है।

अच्छी बात : पानी के लिए 10 हजार ट्रैंच
पौधों को पानी मिलता रहे, इसके लिए गड्‌ढ़ों के बीच में 10 हजार ट्रैंच भी बनाए हैं। इनमें बरसात का पानी इकट्ठा होता रहेगा। 26 कच्चे और 2 पक्के एनिकट के अलावा ट्रैंच से पानी जमा रहेगा। इससे न सिर्फ प्लांटेशन काे पानी मिलेगा, बल्कि आसपास के गांवों के कुओं और हैंडपंपों का जलस्तर भी बढ़ेगा।

चुनौती : 5 गांवों के लोगों ने पहाड़ियों पर खोद गड्‌ढ़े
डीसीएफ हरिकिशन सारस्वत ने बताया कि सूखी ऊंची पहाड़ियाें पर इस काम काे अंजाम देना बेहद मुश्किल था। रेंजर कपिल चाैधरी, वनपाल शकील अहमद, सहायक वनपाल इंद्रपाल शर्मा, वनरक्षक राकेश बड़ेरी और कैटल गार्ड रमेश ने 5 गांवाें के ग्रामीणाें के सहयाेग इस संकल्प काे पूरा किया।

भास्कर नॉलेज

1 पेड़ हर दिन देता है 230 लीटर ऑक्सीजन जिससे सात लोगों की बच सकती है जिंदगी
एक स्वस्थ पेड़ हर दिन लगभग 230 लीटर ऑक्सीजन छोड़ता है, जिससे 7 लोगों को प्राण वायु मिल पाती है। सरवन डेरी के पास डेरी, मालपाड़ा, प्रतापनगर, उमरीपाड़ा, पीपलीपाड़ा, फेफर, आंबाखाे और नादिया गांव नजदीक हैं। भविष्य में पाैधाें के पेड़ बनने पर करीब 2 किमी के क्षेत्र के गांवाें काे शुद्ध ऑक्सीजन मिलेगी। वन विभाग के एक्सपर्ट्स कहते हैं-एक पेड़ अपनी औसत उम्र 50 से 60 साल में 15.70 लाख रुपए की व्यवस्था करता है।