पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पंचायत समिति बांसवाड़ा में ड्रामा:प्रधान ने बीडीओ के कमरे पर ताला लगवाया, मंत्री के फाेन पर एसडीएम जांच के लिए पहुंचे ताे खुला मिला

बांसवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बांसवाड़ा. प्रधान की ओर से बीडीओ कक्ष के बाहर लगवाया गया ताला। - Dainik Bhaskar
बांसवाड़ा. प्रधान की ओर से बीडीओ कक्ष के बाहर लगवाया गया ताला।
  • एक दिन पहले ही प्रधान ने कलेक्टर, सीईओ से बिना पात्रता कार्यवाहक बीडीओ को हटाने की मांग की थी
  • आरोप- पात्रता नहीं, फिर भी दे रखा है चार्ज, एसडीएम ने लिए एईएन के बयान

पंचायत समिति बांसवाड़ा में मंगलवार शाम बड़ा राजनीतिक ड्रामा चला। इसके निर्माता-निर्देशक रहे नेता और अधिकारी। मंत्री भी फोन के जरिए इस पूरे ड्रामे में किरदार बने रहे। हुआ यह कि प्रधान बलवीर रावत ने सोमवार शाम को ही बीडीओ खातूराम निनामा के कक्ष पर ताला लगवा दिया। इस कक्ष पर इंटरलॉक होने से प्रधान के निर्देशों की पालना में बाजार से लोहे की जंजीरनुमा चैन व लटकाने वाला ताला लाए।

मंगलवार दोपहर बाद तक यह ताला वहां लटका रहा। शाम को एईएन राकेश मीना वहां पंहुचे। इसके बाद ड्रामे की शुरूआत हुई। उन्होंने चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी से बीडीओ कक्ष पर ताला लगे हाेने के बारे में पूछा। उसने प्रधान की ओर से ताला लगवाए जाने की जानकारी दी। प्रधान काे इसकी सूचना मिली ताे उन्होंने अपने ड्राइवर काे चाबी लेकर माैके पर भेजा। ड्राइवर ने ताला खाेल दिया।

वहां उपस्थित एईएन राकेश मीणा ने ड्राइवर से इस बारे में पूछा ताे उसने प्रधान के निर्देश पर ताला लगाने व खाेलने की बात कही। एईएन ने इसका वीडियो बना लिया। इसकी जानकारी जयपुर में बैठे टीएडी मिनिस्टर अर्जुनसिंह बामणिया काे दी जाती है। इस बीच सरपंच संघ की भी इस ड्रामे में एंट्री हाेती है। अध्यक्ष अशाेक डामाेर के नेतृत्व में एडीएम व सीईओ काे इस बारे में ज्ञापन साैंपा जाता है। तब तक मंत्री के फाेन की घंटिया भी प्रशासनिक अधिकारियों के मोबाइल पर बजने लगती है।

बीडीओ कक्ष में बैठकर कार्मिकों के बयान लेते हुए एसडीएम चूंडावत।
बीडीओ कक्ष में बैठकर कार्मिकों के बयान लेते हुए एसडीएम चूंडावत।

इसके बाद एडीएम नरेश बुनकर भी एसडीएम पर्वतसिंह चूंडावत काे इस बारे में अवगत कराते हैं व वस्तुस्थिति का पता लगाने के निर्देश देते हैं। एसडीएम अपने कार्यालय से रीडर व अन्य सहायक काे लेकर पंचायत समिति कक्ष पर पहुंचते हैं, लेकिन उन्हें बीडीओ कक्ष खुला मिलता है। वे भीतर बैठ कर एईएन व अन्य कर्मचारियों से इस संबंध में पूछताछ करते हैं। उपस्थिति पंजिका की जांच करते हैं। कुछ देर बाद पुन: अपने कार्यालय लाैट जाते हैं।

बीडीओ जिले से बाहर थे, चतुर्थश्रेणी कर्मचारी भी नहीं था, अंदर महत्वपूर्ण सामान था इसलिए लगवाया ताला: प्रधान

प्रधान बलवीर रावत का कहना है कि साेमवार शाम कार्यालय समय समाप्त हाेने के बाद अपने कक्ष से निकल कर बाहर निकल रहे थे। उन्हें बीडीओ का कमरा खुला मिला। जबकि बीडीओ जिले से बाहर थे। चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी भी वहां नहीं था। बाहर बारिश हाे रही थी। बीडीओ कक्ष में कंप्यूटर व अन्य महत्वपूर्ण सामान रखा था। बीडीओ कक्ष के ताले की चाबी भी वहां नहीं थी। ऐसे में कक्ष खुला नहीं छाेड़ा जा सकता। उन्होंने बरसते हुए पानी में ड्राइवर काे भेज ताला व चैन मंगवा उसे बीडीओ के कक्ष पर लगवा दिया।

मंगलवार काे बीडीओ बांसवाड़ा नहीं थे। उन्हें इसकी जानकारी थी। दोपहर बाद एईएन राकेश मीणा वहां पहुुुंचे व चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी से ताले के बारे में पूछताछ की। एईएन के लिए अलग से कक्ष हैं, जहां वे बैठते हैं। उन्हें लगा कि शायद बीडीओ कक्ष में एईएन काे कुछ काम हाेगा। एईएन जिम्मेदार अधिकारी हैं, इस कारण ड्राइवर के साथ चाबी भिजवा ताला खुलवा दिया था। कुछ लाेग बेवजह मामले काे तूल देने का प्रयास कर रहे हैं।

एईएन के साथ जयपुर में विभागीय बैठक में गया था, अतिरिक्त चार्ज विभाग ने दे रखा है: बीडीओ

बीडीअाे खातूराम निनामा का कहना है कि वे एईएन के साथ साेमवार काे जयपुर में आयोजित विभागीय बैठक में भाग लेने गए थे। रही बात बीडीओ पद पर लगाने की ताे इसका विभागीय आदेश है। नियम है कि 7 जून 2021 के परिपत्र में नियमित सहायक अभियंता काे वरियता क्रम में सबसे ऊपर रहते हैं। वे पातेय वेतन पर सहायक अभियंता हैं। विभाग उन्हें नियमित सहायक अभियंता मानता है या नहीं।

इस बारे में विभाग से मार्गदर्शन लिया जा सकता है। वहीं एईएन राकेश मीना का कहना है कि पंचायत समिति में अतिरिक्त विकास अधिकारी का पद रिक्त है। सहायक विकास अधिकारी पे स्केल में काफी जूनियर हैं। एेसे में विभागीय निर्देशों के अनुसार पंचायत समिति कार्यालय में पदस्थापित वरिष्ठतम अधिकारी काे बीडीओ का चार्ज दिया जा सकता है। सहायक अभियंता खातूराम निनामा सबसे वरिष्ठ हैं।

प्रधान की शिकायत: बीडीओ उनकी स्वीकृति के बगैर ही अवकाश पर, पहले भी ऐसे ही कई बार अनुपस्थित रह चुके हैं

पंचायत समिति बांसवाड़ा के प्रधान बलवीर रावत ने सोमवार को कार्यवाहक कलेक्टर नरेश बुनकर व जिला परिषद सीईओ भवानीसिंह पालावत से मुलाकात कर उनकी पंचायत समिति में नियम विरुद्ध बीडीओ के पद पर कार्यरत खातूराम निनामा को हटाने की मांग की थी। उन्हें पत्र भी साैंपा था, जिसमें भास्कर के 3 जुलाई के अंक में प्रकाशित “बिना पात्रता एक ही एईएन को दिया दो पंचायत समितियों का चार्ज” का उल्लेख किया था। साथ ही प्रधान ने इस बात की भी शिकायत की थी कि कार्यवाहक बीडीओ खातूराम सोमवार को उनसे अवकाश स्वीकृत कराए बिना ही अनुपस्थित हैं। पूर्व में भी वे बिना अवकाश स्वीकृत कराए अनुपस्थित रह चुके हैं।

जब ड्रामा चल रहा था तब कार्यवाहक बीडीओ छोटी सरवन पंचायत समिति में काम कर रहे थे

जयपुर से मंत्री लगातार फाेन कर प्रशासनिक व पंचायत समिति के अधिकारियों से मामले की जानकारी लेते रहे। इस पूरे घटनाक्रम के दाैरान बीडीओ खातूराम पंचायत समिति छाेटी सरवन में बैठे हुए थे। उनके पास वहां का भी अतिरिक्त चार्ज है। मंत्री के निर्देश पर वे शाम साढ़े छह बजे पंचायत समिति बांसवाड़ा पहुंचे। इसके बाद एईएन राकेश मीणा काे साथ लेकर एसडीएम कार्यालय गए और वहां पर एसडीएम के समक्ष अपने बयान दर्ज कराए। अब इसकी रिपोर्ट जयपुर मुख्यालय भेजी जाएगी।