• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Banswara
  • Pradhan Kanta Garasiya Said: Answer Collector, How Many FIRs Are There On Bad Roads, Those Who Have Come To The District Wearing Goggles, Take Them Off, Surround PWD And NH

खराब सड़कों को लेकर गर्माया माहौल:जिला परिषद की बैइक में बोलीं प्रधान कांता गरासिया- जवाब दो कलेक्टर साहब, खराब सड़कों पर कितनी FIR की है, PWD और NH को भी घेरा

बांसवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जिला परिषद की बैठक में बुधवार को मौजूद जिला परिषद सदस्य एवं विभागों के अधिकारी। - Dainik Bhaskar
जिला परिषद की बैठक में बुधवार को मौजूद जिला परिषद सदस्य एवं विभागों के अधिकारी।

प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना-3 से जुड़े प्रस्तावों के अनुमोदन को लेकर जिला परिषद की बुधवार को हुई बैठक हंगामेदार रही। बांसवाड़ा-डूंगरपुर राजमार्ग पर डेढ़-डेढ़ फीट गहरे गड्‌ढों से बाधित आवागमन को लेकर पूर्व विधायक एवं प्रधान कांता गरासिया ने नेशनल हाइवे विभाग के जिम्मेदारों को घेरने की कोशिश की। खराब सड़कों को लेकर अधिकारियों को नसीहत ही नहीं दी बल्कि जिला कलेक्टर से भी जवाब मांगती दिखाई दीं। गरासिया ने कलेक्टर अंकित कुमार सिंह से कहा कि खराब सड़कों को लेकर वे जवाब दें। वह भी लोगों की इस तकलीफ को लेकर जिम्मेदार हैं। बताएं कि अब तक इस रोड पर कितनी दुर्घटनाएं हुई हैं। दुर्घटना को लेकर अब तक कितनी बार सड़क निर्माण से जुड़ी एजेंसी या ठेकेदार के खिलाफ FIR की है।

कलेक्टर से जवाब मांगती प्रधान कांता गरासिया।
कलेक्टर से जवाब मांगती प्रधान कांता गरासिया।

वहीं कलेक्टर ने माना कि सड़क की हालत खराब है। वे खुद प्रधान गरासिया की बात से सहमत हैं। कलेक्टर के पूछने पर एनएच विभाग के एक्सईएन वीरेंद्र शाह ने कहा कि वे गुरुवार से ही सड़क के गड्‌ढों में भराव कर व्यवस्था सुधार के लिए प्रयास करेंगे। कांता ने विभागीय अधिकारियों को यह कहकर भी चेताया कि यहां के लोगों को सीधा समझने की गलती नहीं करें। बाहर निकलना मुश्किल कर देंगे। मौके पर जिला परिषद सीईओ भवानी सिंह पालावत, जिला प्रमुख रेशम मालवीया एवं घाटोल विधायक हरेंद्र निनामा मौजूद थे।
हाई-वे पर नहीं जलती लाइटें

जिला परिषद सदस्य एवं पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष कृष्णा कटारा ने सदन में पाड़ीकला, बड़ोदिया जैसे स्थानों से गुजरते नेशनल हाई-वे पर रात के समय लाइटें नहीं जलने का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि पिछली बैठक में भी यह मुद्दा उठा था, लेकिन अब तक किसी ने इस विषय पर ध्यान नहीं दिया। जवाब में एक्सईएन शाह ने कहा कि पाड़ी वाला इलाका NHAI में अधिकार क्षेत्र में आ रहा है। इसका PD (प्रोजेक्ट डायरेक्टर) गोधरा (गुजरात) में बैठता है। उनकी ओर से इस समस्या को लेकर NHAI को पत्र लिखा जा चुका है।

पीडब्ल्यूडी एसीई राजकुमार सिंह के जवाब को सुनने की बजाए हंगामा करते सदस्य हकरू मईड़ा।
पीडब्ल्यूडी एसीई राजकुमार सिंह के जवाब को सुनने की बजाए हंगामा करते सदस्य हकरू मईड़ा।

पीडब्ल्यूडी एसई को नहीं बोलने दिया

इधर, बांसवाड़ा से जयपुर मार्ग पर शहर की पैराफेरी वाली खराब सड़कों की बदहाली को लेकर जिला परिषद सदस्य हकरू मईड़ा ने पीडब्ल्यूडी को घेरने की कोशिश की। कहा कि खराब सड़कों से उनके गांव के कई लोगों की मौत हो गई है, दुर्घटनाएं बढ़ रही हैं, लेकिन, जिम्मेदार अधिकारी कानों में तेल डालकर बैठे हैं। समस्या का समाधान तलाशने की बजाए विभाग केवल चुपड़ी बातें करता है। इस मौके पर विभाग के एसीई (अतिरक्त मुख्य अभियंता) राजकुमार सिंह ने जवाब देने के प्रयास किए तो सदस्यों ने उनकी एक नहीं सुनी बल्कि निरंतर घेरने की कोशिश की।

अधिकारियों के जवाब का संशोधन करते कलेक्टर अंकित कुमार सिंह।
अधिकारियों के जवाब का संशोधन करते कलेक्टर अंकित कुमार सिंह।

जनता जल योजना की सीएम को शिकायत
पूर्व संसदीय सचिव एवं जिला परिषद सदस्य नानालाल निनामा ने पीएचईडी को अभियंताओं को धौंस दी कि वह जनता जल योजना को लेकर मुख्यमंत्री को शिकायत करेंगे। कलेक्टर से बोले कि योजना के तहत एक बूंद पानी गांवों को नहीं मिला है। उल्टा अनपढ़ सरपंचों को धोखे में रखकर उनसे योजना सुपुर्दगी के हस्ताक्षर करा लिए हैं। अब ग्राम पंचायतों को 500 करोड़ रुपए केवल बिजली का भुगतान करना है। उन्होंने कहा कि घाटोल क्षेत्र के 108 गांवों में ऐसी समस्याएं हैं। योजना है लेकिन, किसी को एक बूंद पानी नहीं मिला। मामले में पीएचईडी के अभियंता ने जवाब देने के प्रयास किए तो निनामा ने उसे डराकर बैठा दिया।

खबरें और भी हैं...