पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Banswara
  • Public Representatives Said Private Company Doing Dishonesty, Electricity Meters Will Be Changed Forcibly, Contract Company Has Come For Earning, Starting With Signature Campaign On The First Day

बिजली ठेका एजेंसी के विरोध में उतरे शहरवासी:सरचार्ज वसूली का विरोध, समिति के पदाधिकारी बोले: हर महीने के बिल में दो महीने का सरचार्ज वसूल कर रही है कंपनी, जब तक नहीं जाएगी तब तक होगा आंदोलन

बांसवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बांसवाड़ा के गांधी मूर्ति जुटे शहरवासी। - Dainik Bhaskar
बांसवाड़ा के गांधी मूर्ति जुटे शहरवासी।

बिजली बिल के नाम पर ठेका एजेंसी की ओर से हो रही मनमानी वसूली का गुस्सा गुरुवार को फूट गया। विरोध में लोगों के साथ स्थानीय जनप्रतिनिधि भी सड़कों पर उतर आए और बांसवाड़ा विकास समिति के बैनर तले गांधी मूर्ति पर जुटे स्थानीय पार्षदों ने ठेका एजेंसी को हटाने के लिए अभियान छेड़ दिया। समिति पदाधिकारियों ने आरोप लगाया कि ठेका एजेंसी पूरे शहर में बिजली मीटर बदलेगी। यह मीटर सेवाएं दे रही ठेका एजेंसी की खुद की कंपनी से बने हुए होंगे। पहले ही शहर ज्यादा बिल और अधिक टैक्स की मार झेल रहा है। ऊपर से पुराने मीटर बदलकर लूट कर रही एजेंसी खुद के मीटर लगाएगी। इससे पूरे शहर में ठगी का खेल शुरू हो जाएगा। इसके विरोध में हस्ताक्षर अभियान शुरू किया गया।

बांसवाड़ा विकास समिति की ओर से जारी हस्ताक्षर अभियान।
बांसवाड़ा विकास समिति की ओर से जारी हस्ताक्षर अभियान।

यह है मामला
गौरतलब है कि एक अप्रैल 2021 को अजमेर डिस्कॉम ने व्यवस्था में बदलाव करते हुए शहरी उपभोक्ताओं तक पहुंचने वाली बिजली और एलटी लाइनों के रखरखाव को लेकर सिक्योर मीटर को जिम्मेदारी सौंपी थी। इसके बाद से लोगों की समस्याएं कम होने की बजाए बढ़ती चली गईं। मनमानी वाले बिजली बिलों की शिकायतें बढ़ गई। लोग परेशान भी हुए। पहले दो महीने में होने वाली वसूली बिलों को हर महीने कर दिया। वहीं बिल के साथ सरचार्ज दो महीने का एक साथ वसूला जाने लगा।
बैनर समिति का, मुखौटा भाजपा का
बांसवाड़ा विकास समिति के नाम पर गांधी मूर्ति क्षेत्र में पंडाल लगाकर ठेका एजेंसी का विरोध कर रहे लोगों में सर्वाधिक भीड़ भाजपा से चुने गए शहरी पार्षदों की रही। हालांकि, अन्य लोग भी मौका पर थे, पर नेताओं के मुकाबले उनकी संख्या कम रही। समिति अध्यक्ष महावीर बोहरा खुद भी भाजपा से पार्षद हैं। विरोध कर रहे लोगों का कहना है कि यह पूरे शहर समस्या है। इसमें पार्टी विशेष का कोई लेना-देना नहीं है। आमआदमी की पीड़ा है। इसलिए यह लड़ाई समिति के बैनर तले की जा रही है।
भविष्य का संकट
समिति अध्यक्ष महावीर बोहरा ने कहा कि अजमेर डिस्कॉम ने मनमानी करते हुए ठेका एजेंसी को यह जिम्मेदारी सौंपी है। सेवाएं देने आई कंपनी यहां कमाने आई है। वह ज्यादा की वसूली करेगी तो उसका ज्यादा कमीशन बनेगा। सुधार के नाम पर बिजली व्यवस्थाएं बिगाड़ी जा रही हैं। बिल हर महीने का देकर दो महीने का सरचार्ज वसूला जा रहा है। लोग अब आर-पार के मूड में हैं। निजी कंपनी के नहीं जाने तक आंदोलन नहीं रूकेगा। भले ही इसके लिए बांसवाड़ा बंद करने जैसे कदम उठाएं जाएं।
कोरोना से अनदेखी
विकास समिति के बैनर तले की जा रही लड़ाई में बड़ी संख्या में मौजूद भाजपा के पार्षदों ने कोरोनाकाल को लेकर अनदेखी की।हस्ताक्षर अभियान को लेकर यहां तक पहुंच रहे बहुत से लोगों के चेहरों पर भी मास्क नहीं था। ऐसे हालात तब हैं, जब यहां बांसवाड़ा में बीते दो दिनों के दौरान 7 कोरोना पॉजिटिव सामने आ चुके हैं।

खबरें और भी हैं...