पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

आचार्य के केशलोंच उपवास का हुआ पारणा:पुलक सागरजी ने कहा- सोच एवं साहस से हर कार्य को सरल किया जा सकता

बांसवाड़ाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

आचार्य पुलक सागर और प्रणीत सागर महाराज का बाहुबली कॉलोनी जैन मंदिर में चातुर्मास के अंतर्गत गुरुदेव द्वारा अपने बालों को अपने हाथों से केशलोंच किया। जिसके बाद उपवास का पारणा हुआ। जैन समाज में केशलोंच शरीर से मोह त्यागने और हिंसा को टालने के लिए करते हैं, क्योंकि केश बढ़ने से कई सूक्ष्म जीव उत्पन्न हो जाते है।

कैंची या अन्य साधन द्वारा केश काटने पर सूक्ष्म जीवों का संहार हो जाता है। उन सूक्ष्म जीवों की रक्षा के लिए दिगंबर गुरु हाथों से केशलोंच करते हैं। साथ ही उस दिन प्रायश्चित स्वरूप पूर्ण अन्न जल का त्याग कर उपवास करते हैं। चातुर्मास कमेटी के प्रवक्ता महेंद्र कवालिया ने बताया कि गुरुवर का आहारचर्या लक्ष्मी लाल नायक परिवार के यहां हुई।

यहां आहार चर्या  के बाद आचार्य से उत्सुकतावश पूछ लिया -गुरुवर केशलोंच करते समय आपको तकलीफ नहीं होती क्या ?.....उन्हाेंने मुस्कुराते हुए बोला कि जब तक आप किसी के बारे में जानते नहीं, समझते नहीं, तब तक हर कार्य कठिन लगेगा। जितना समझोगे उतना सरल होगा। कोई चीज सरल नहीं होती है। सोच एवं साहस से हर कार्य को सरल किया जा सकता है। आचार्य से पूछा सोच कैसे बदले?.... गुरुदेव ने बताया किसी भी चीज का त्याग करने से पहले इतनी सोच बना लो कि क्या इसके बिना मेरा जीवन नष्ट हो जाएगा। यदि भीतर से आवाज आती है, इसके बिना भी मैं जी सकता हूं उस चीज का त्याग आप मन से कर पाओगे।

इतनी सी बात आप ने समझ ली तो आपको अपने आप हर कार्य सरल लगेगा। आचार्य जी ने कहा कि कोई भी कार्य कोई सीख कर नहीं आता। उससे सीखना पड़ता है। पहले हर कार्य कठिन लगता है कार्य करने के बाद हर कठिन कार्य सरल हो जाता है। हर व्यक्ति अपने सोच परिवर्तित कर साहस के साथ कार्य करता है तो उसे कोई भी कार्य मुश्किल नहीं लगता है।

0

आज का राशिफल

मेष
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आपका कोई सपना साकार होने वाला है। इसलिए अपने कार्य पर पूरी तरह ध्यान केंद्रित रखें। कहीं पूंजी निवेश करना फायदेमंद साबित होगा। विद्यार्थियों को प्रतियोगिता संबंधी परीक्षा में उचित परिणाम ह...

और पढ़ें