सांस लेने में तकलीफ और खांसी से परेशान:TB हॉस्पिटल में सिलिकोसिस के मरीजों की कतार, मेडिकल बोर्ड ने की जांच

बांसवाड़ा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बांसवाड़ा के टीबी हॉस्पिटल परिसर में सिलिकोसिस रोग की जांच कराने के लिए जुटे रजिस्टर्ड मरीज। - Dainik Bhaskar
बांसवाड़ा के टीबी हॉस्पिटल परिसर में सिलिकोसिस रोग की जांच कराने के लिए जुटे रजिस्टर्ड मरीज।

सांस लेने में तकलीफ और खांसी से परेशान रोगियों की शुक्रवार को TB हॉस्पिटल में लंबी कतार लगी रही। इस हॉस्पिटल में रोगियों की कतार में खड़ी इतनी भीड़ यहां से गुजरने वाले हर आदमी को हैरत में डालती रही। बाद में पता चला कि ये कोरोना और TB जैसे रोग से ग्रस्त लोग नहीं है। बल्कि सिलिकोसिस रोग के लक्षणों से ग्रस्त वह लोग हैं, जो माइनिंग इलाकों में काम करते हैं। या फिर ऐसे लोग हैं, जो निर्माण कामों से नाता रखते हैं। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बाद यह लोग इस अस्पताल में मेडिकल बोर्ड से सिलिकोसिस रोग की जांच कराने आए हैं। यहां आने वाले लोगों में सज्जनगढ़ और कुशलगढ़ क्षेत्र के लोगों की भीड़ ज्यादा थी। ये वह लोग हैं, जो गोधरा (गुजरात) और दूरदराज के माइनिंग इलाकों में काम करने के दौरान सांस संबंधी बीमारी का शिकार हुए हैं।

बांसवाड़ा के टीबी हॉस्पिटल के बाहर लगी मरीजों की कतार।
बांसवाड़ा के टीबी हॉस्पिटल के बाहर लगी मरीजों की कतार।

गौरतलब है कि बांसवाड़ा के कुशलगढ़, सज्जनगढ़, गांगड़तलाई, आनंदपुरी सहित अन्य इलाकों में बड़ी संख्या में लोग परिवार के साथ गुजरात और अन्य समीपवर्ती इलाकों में पलायन करते हैं। मजदूरी करने वाले ये परिवार ज्यादातर माइनिंग इलाकों से नाता रखते हैं। जिले में वर्तमान में सिलिकोसिस रोगियों की संख्या 76 है। वहीं अब तक 3 हजार से अधिक रोगियों की जांच हो चुकी है।
सरकार से मिलती है आर्थिक मदद
हकीकत में बांसवाड़ा के कुशलगढ़ और सज्जनगढ़ की कुछ ग्राम पंचायतों में आजीविका मिशन (NGO) की ओर से हुए सर्वे में करीब 300 के लगभग सस्पेक्टेड रोगी होने की जानकारी मिली थी। ऐसे रोगी बीमारी के लक्षण मिलने पर डॉक्टर की सलाह पर ई-मित्र पर रजिस्ट्रेशन कराते हैं, जहां से उन्हें प्राथमिक जांच के लिए संबंधित CHC और PHC भेजा जाता है। बाद में गंभीर रोगी में सिलिकोसिस होने की पुष्टि TB हॉस्पिटल का मेडिकल बोर्ड जांच के बाद करता है। बता दें कि सरकार की ओर से ऐसे चिन्हित रोगियों को तीन लाख की आर्थिक सहायता देने का प्रावधान है।
दो दिन में देंगे रिपोर्ट
मामले में TB हॉस्पिटल इंचार्ज डॉ प्रवीण वर्मा ने कहा कि शुक्रवार को मेडिकल बोर्ड से सिलिकोसिस रोग के लक्षण वाले रोगियों की जांच होनी थी। मरीजों को बोर्ड की ओर से तारीख दी जाती है। तब वह यहां जांच कराने आते हैं।

खबरें और भी हैं...