नए साल पर मिलेगी सौगात:शहर के श्यामपुरा वन क्षेत्र में 25 लाख में बनेगा प्रदेश का पांचवां 3.3 किमी लंबा वॉकिंग और साइकिल ट्रैक

बांसवाड़ा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
श्यामपुरा के जंगल में साइकिल ट्रैक का काम शुरू हो गया है। - Dainik Bhaskar
श्यामपुरा के जंगल में साइकिल ट्रैक का काम शुरू हो गया है।
  • कलेक्टर ने दी स्वीकृति, उदयपुर, चूरू, सीकर और बीकानेर में है अभी साइकिलिंग ट्रैक, बर्ड सेंचुरी भी बनाने की योजना

साइक्लिंग करने वाले लोगों के लिए अच्छी खबर...शहर का ऑक्सीजन हब कहे जाने वाले श्यामपुरा वन क्षेत्र में जल्द ही 3.3 किलोमीटर लंबा वॉकिंग और साइकिल ट्रैक तैयार किया जाएगा। इस पर 25 लाख रुपए खर्च होंगे। कलेक्टर ने ट्रैक को मंजूरी दे दी है और काम भी शुरू हो गया है। यह प्रदेश का पांचवां ट्रैक होगा। अभी तक उदयपुर, चूरू, सीकर और बीकानेर में बने है। डीएफओ ने बताया कि 70 हैक्टेयर में फैले श्यामपुरा में 75 हजार से ज्यादा पेड़-पौधे हैं।

ट्रैक निर्माण के काम काे देखने मंगलवार काे कलेक्टर अंकित कुमार सिंह, सभापति जैनेंद्र त्रिवेदी, उपवन संरक्षक हरिकिशन सारस्वत, रेंजर कपिल चौधरी पहुंचे। कलेक्टर सिंह ने बताया कि पूरे ट्रैक के दाेनाें तरफ फ्लॉवर प्लांट और फ्रेगरेंस प्लांट लगाए जाएंगे, ताकि ट्रैक पर सुगंधित और खुशनुमा अहसास हाे। इसके अलावा श्यामपुरा में वाॅच टावर भी पहले से बना हुआ है, उसे भी मरम्मत कर आकर्षक बनाया जाएगा।

ड्रेनेज वाले पहाड़ी हिस्सों से आने वाले बरसाती पानी को निकालने के लिए अंडर ग्राउंड नालियां बनाई जाएंगी। वन विभाग की ओर से टीएडी विभाग काे श्यामपुरा वन क्षेत्र का 5 कराेड़ का डेवलपमेंट प्राेजेक्ट तैयार कर भेजा गया, लेकिन उसकी स्वीकृति नहीं मिली। अब प्रशासन और वन विभाग ने अपने स्तर पर इसे डवलप कर आम लोगों के लिए तैयार करने का काम शुरू कर दिया है।

दिल से जुड़ी बीमारियों और टाइप-2 डायबिटीज का खतरा कम करती है रोज 20 मिनट की साइक्लिंग

कोपेनहेगन को दुनिया का सबसे ज्यादा साइकल फ्रेंडली शहर माना जाता है और वहां साइकिलिंग के फायदे जानने के लिए एक रिसर्च किया गया। इस रिसर्च के दौरान साइक्लिंग करने वाले लोगों की 14 वर्षों तक मॉनिटरिंग की गई। रिसर्च खत्म होने के बाद पता लगा कि रोज सिर्फ 20 मिनट साइकल चलाने से दिल की बीमारियों का खतरा 50 प्रतिशत तक कम हो जाता है।

डब्ल्यूएचओ का सुझाव है कि 18 वर्ष से 64 वर्ष तक के हर व्यक्ति को दिनभर में 150 मिनट तक शारीरिक गतिविधियों में शामिल रहना चाहिए और वर्क आउट करना चाहिए, लेकिन साइकल का फायदा ये है कि सिर्फ 20 मिनट की साइक्लिंग से ही आपको 150 मिनट तक किए जाने वाले शारीरिक व्यायाम का फायदा मिल जाता है। इससे टाइप-2 डायबिटीज का खतरा भी बहुत हद तक कम हो जाता है।

साइक्लिंग से सड़क दुर्घटनाओं में भी 30 फीसदी की कमी ला सकते हैं : रिपोर्ट

1. ब्रिटेन में की गई स्टडी के मुताबिक अगर ब्रिटेन में डेनमार्क की तर्ज पर साइक्लिंग को बढ़ावा दिया जाए तो ब्रिटेन अगले 20 वर्षों में 17 बिलियन पाउंड यानी करीब 1 लाख 41 हजार करोड़ रुपए बचा सकता है।

2. साइकल वाहनों के मुकाबले सिर्फ एक तिहाई जगह घेरती है और साइक्लिंग को बढ़ावा देकर ट्रैफिक जाम की समस्या भी सुलझाई जा सकती है।

3. 1954 में भारत के 57 प्रतिशत लोग यातायात के लिए साइकल का इस्तेमाल करते थे। जबकि 2014 तक ये संख्या घटकर सिर्फ 6 से 8 प्रतिशत के बीच रह गई।

4. साइक्लिंग को बढ़ावा देकर सड़क दुर्घटनाओं में 30 प्रतिशत की कमी लाई जा सकती है।​​​​​​​

आगे क्या : डूंगरपुर की तर्ज पर बर्ड सेंचुरी भी डेवलप की जाएगी

​​​​​​​कलेक्टर ने बताया कि अभी काेई डीपीआर या प्राेजेक्ट तैयार नहीं किया गया है। सिर्फ वीजन के आधार पर काम शुरू किया गया है। आगे इस पूरे क्षेत्र काे बर्ड सैंचुरी की तरह डेवलप किया जाएगा। जिसके लिए डूंगरपुर में जिस एजेंसी द्वारा बर्ड सेंचुरी तैयार गई है उन्हें यहां बुलाया गया था, जिन्हाेंने प्लान बनाए हैं। आगे और बजट प्राप्त हाेने पर उस प्लान काे एग्जिक्यूट किया जाएगा।

कलरफूल बर्ड व वन्यजीव लाएंगे

​​​​​​​श्यामपुरा वन क्षेत्र में पहले से ही 80 प्रकार की प्रजातियों की तितलियां हैं। चाराें तरफ दीवार उठाकर और फैंसिंग कराने के बाद चीतल, सांभर और हिरण भी छाेड़ने की योजना है।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...