पहले पति को छोड़ नाते गई:दूसरे पति से दूर पीहर में रही, अब खेत में मिला विवाहिता का सड़ा हुआ शव

बांसवाड़ा7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बांसवाड़ा में सोमवार दोपहर को मोर्चरी के बाहर विवाहिता का शव लेने के लिए पहुंचे लोग। - Dainik Bhaskar
बांसवाड़ा में सोमवार दोपहर को मोर्चरी के बाहर विवाहिता का शव लेने के लिए पहुंचे लोग।

पहले पति को छोड़कर तीन महीने में ही विवाहिता नाते चली गई, लेकिन दूसरा युवक भी उसे जिंदगी की खुशियां नहीं दे पाया। दूसरे ससुराल में अनबन के बीच विवाहिता दिवाली पर उसके पिता के घर रहने आ गई। सात दिन पहले वह यहां से भी निकल गई। अब उसका शव मिला। विवाहिता का शव पीहर से कुछ दूरी पर स्थित कपास में खेत में सड़े-गले हाल में मिला। सोमवार को पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव पीहर पक्ष को सौंप दिया। मामले में खास बात यह रही कि विवाहित होने के बावजूद परिजनों ने महिला की पहचान में उसके पति का नाम नहीं लिखाया बल्कि पिता का नाम लिखाकर पूरी पुलिस कार्रवाई कराई।

पाटन थाना प्रभारी हरिशंकर कटारा ने बताया कि रविवार शाम को महुड़ा में कपास के एक खेत में बसु पुत्री लालचंद का शव पड़े होने की सूचना मिली थी। शव से दुर्गंध आ रही थी। इसके बाद पहुंची पुलिस ने शव उठवाकर पोस्टमार्टम कक्ष, बांसवाड़ा पहुंचाया। पोस्टमार्टम के बाद पुलिस ने शव परिजनों को सौंप दिया। खेत में शव के पास पुलिस को जहर की शीशी भी मिली थी। कटारा ने बताया कि प्राथमिक जांच में मामला आत्महत्या का लग रहा है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद पुलिस मामले की जांच करेगी।

पहले नाते गई थी
थाना प्रभारी हरिशंकर ने बताया कि युवती का एक साल पहले सामाजिक रीति-रिवाज से विवाह हुआ था। करीब तीन महीने वह ससुराल में रही। इसके बाद विवाहिता किसी दूसरे युवक के साथ नाते चली गई। पहले ससुराल और पीहर के बीच इस मुद्दे को लेकर फैसला भी हो गया था, लेकिन दिवाली के बाद विवाहिता बसु उसके दूसरे पति से दूर यहां पीहर रहने आ गई। इसके बाद वह गई नहीं। करीब 7 दिन पहले वह पिता के घर से भी बिना बताए निकल गई, जिसका शव खेत में मिला।
ससुराल से कोई नहीं आया
महात्मा गांधी जिला अस्पताल में विवाहिता का पोस्टमार्टम कराने आए पाटन थाने के HC युवराजसिंह ने बताया कि विवाहिता का शव पीहर पक्ष को सौंपा गया है। युवराज ने बताया कि ससुराल पक्ष की ओर से कोई भी प्रतिनिधि यहां नहीं आया था। अंतिम संस्कार में कोई पहुंचा या नहीं। यह वह नहीं बता सकते हैं।