कोरोना वार्ड के बाहर सुरक्षा बढ़ाई:एमजी हॉस्पिटल में आगन्तुकों से सख्त पूछताछ, कलक्टर और एसपी ने किया निरीक्षण

बांसवाड़ा7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बांसवाड़ा के एमजी हॉस्पिटल में सुरक्षा सख्त। - Dainik Bhaskar
बांसवाड़ा के एमजी हॉस्पिटल में सुरक्षा सख्त।
  • दबंग पुलिस अधिकारी और जवानों को बुलाया

बांसवाड़ा। मुख्यालय पर स्थित एक मात्र कोविड सेंटर और जिला चिकित्सालय में संक्रमितों की बढ़ती संख्या को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने यहां सुरक्षा घेरा सख्त कर दिया है। चिकित्सकीय स्टाफ की सुरक्षा के लिए विशेष पुलिस बल को वार्ड के बाहर तैनात किया गया है। गुरुवार शाम को इनकी संख्या और बढ़ाई गई। इतना ही नहीं शहर के बॉर्डर इलाकों में सेवाएं दे रहे अनुभवी पुलिस अधिकारियों एवं जवानों को भी यहां तैनात किया जा रहा है। ताकि विराेध या आपात स्थिति में व्यवस्थाओं को बेहतर ढंग से संचालित रखा जा सके।

दूसरी ओर ऑक्सीजन सिलेण्डर की समान पूर्ति को लेकर उपखण्ड अधिकारी से लेकर निचले स्तर का राजस्व अमला यहां नियमित सेवाएं दे रहा है। इसी तरह स्वयं जिला कलक्टर व जिला पुलिस अधीक्षक स्तर पर यहां की व्यवस्थाओं का नियमित जायजा लिया जा रहा है।

खास वजह ऑक्सीजन

चिकित्सालय में पहरा बढ़ाने की एक वजह ऑक्सीजन सिलेंण्डर्स की सप्लाई व्यवस्था है। यहां आने वाले हर मरीज के परिजन सबसे पहले ऑक्सीजन सिलेंडर्स पर फोकस करते हैं। आते ही ऑक्सीजन की मांग की जाती है। उन्हें अंदेशा सताता है कि तुरंत ऑक्सीजन की समस्या में दिक्कत आ सकती है। इसलिए वह पहले से ही ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करते हैं। ताकि जरूरत के समय मरीज को तत्काल सिलेंडर मिल सके। सिलेंडर को लेकर परिजनों और चिकित्सकीय स्टाफ के बीच तनातनी निरंतर रहती है। इसके देखते हुए वार्ड के बाहर सुरक्षा पहरा सख्त किया गया है।

बेवजह की भीड़ हटी

सख्त सुरक्षा व्यवस्था के बीच वार्ड के बाहर तैनात प्रहरी भीतर आने वाले हर व्यक्ति से उसकी पहचान पूछते हैं। भीतर जाने का कारण और भर्ती परिजन का नाम भी पूछते हैं। उसकी पहचान जानकर ही परिजनों को भीतर भेजा जा रहा है। इसका फायदा संक्रमण को रोकने में भी हो रहा है। कारण कि जागरूकता के अभाव में ग्रामीण इलाकों से आने वाले परिजनों के साथ एक पूरा टोला चल देता है। सख्ती से निर्धारित व्यक्ति ही मरीज तक पहुंच रहा है। बेवजह की भीड़ नहीं लग रही।

मिली है जिम्मेदारी

सहायक उपनिरीक्षक विवेकभानिसंह ने बताया कि उच्चाधिकारियों से मिले आदेश की पालना में पाटन थाने से आकर एमजी हॉस्पिटल में जिम्मेदारी संभाली है। शांति व्यवस्था को लेकर प्रशासनिक आदेश की पालना करेंगे।