पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खुदकुशी की आशंका:लॉकडाउन में धंधा मंदा हुआ, तनाव में था जूते-चप्पल का व्यापारी, नहर में मिला शव

बांसवाड़ा3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शहर के बाईं मुख्य नहर में मिली लाश को देखने एकत्रित ग्रामीण लोग। - Dainik Bhaskar
शहर के बाईं मुख्य नहर में मिली लाश को देखने एकत्रित ग्रामीण लोग।
  • बारी गांव के पास मिला शव, पुलिस जांच में जुटी

शहर से सटे बारी गांव के नजदीक माही की नहर में मंगलवार शाम एक व्यापारी का शव मिला। मृतक 42 वर्षीय गुलशन कुमार मूलचंदानी का पुराना बस स्टैंड पर जूते-चप्पलाें की दुकान थी। मूल रूप से काेटा के रहने वाले गुलशन कुमार फिलहाल अमरदीप नगर में रहते थे। माैके हालात और परिजनों से पूछताछ से पुलिस खुदकुशी करने की आशंका जता रही है।

काेतवाल मोतीराम सारण ने बताया कि गुलशन के परिजनों ने बताया कि काेटा में उनका घर है और आर्थिक स्थिति भी ठीक है। लेकिन, बीते लॉकडाउन के बाद से धंधा मंदा चलने लगा था। जिससे गुलशन कुमार अक्सर तनाव में रहते थे। पाैने 4 बजे गुलशन ने अपनी दुकान से निकले थे।

मोबाइल दुकान पर ही छाेड़ गए, वहीं बाइक भी साथ नहीं ली। अंधेरा हाे जाने और परिजनों के अाने के इंतजार में पुलिस ने शव एमजी अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया। माही की नहर में शाम काे एक बुजुर्ग ने शव देखा। जिस पर उसने पुलिस काे खबर दी। टीम के साथ पुलिस माैके पर पहुंची और शव काे बाहर निकाला गया।

थाेड़ी ही देर में माैके पर भीड़ जमा हाे गई। रुस्तम खान नाम के एक व्यक्ति ने बताया कि डेढ़ घंटे पहले ही उन्होंने गुलशन कुमार काे उनकी दुकान के नजदीक से गुजरते देखा था।

इधर, एमजी अस्पताल में भर्ती युवक ने दम ताेड़ा: साेमवार काे एक व्यक्ति काे बीमार हालत में एमजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान उसने दम ताेड़ दिया। बताया जा रहा है कि व्यक्ति त्रंयबकेश्वर मंदिर के पास रहता था, लेकिन वह व्यक्ति काैन था और उसके परिजनों के बारे में दाे दिन बाद भी पता नहीं चल पाया है। पुलिस ने शव काे मोर्चरी में रखवाया है। मृतक के परिजनों की तलाश जारी है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें