पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोतवाली में ठगी के तरीके का डेमाे:ठग ने कांस्टेबल काे काॅल लगाया, फिर डिसप्ले पर सीआई भैयालाल का नंबर

बांसवाड़ा7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
17 अक्टूबर को प्रकाशित समाचार
  • शातिर सुरेश ने बताया कैसे फंसाता था, मामले के तार हवाला काराेबार से जुड़े हाेने की आशंका
  • दो ज्वेलर्स 40 लाख रुपए की ठगी के भास्कर के खुलासे पर आईजी ने मांगी जानकारी

शातिर ठग सुरेश उर्फ भैरिया घांची ने शनिवार काे एक बार फिर पुलिस अधिकारियों काे चाैंका दिया। थाने में ही बैठे-बैठे सुरेश ने एक कांस्टेबल काे काॅल लगाया। लेकिन कांस्टेबल के माेबाइल पर जाे नंबर आया वह सुरेश का नहीं बल्कि पूर्व काेतवाल भैयालाल आंजना का था। इसे देखकर पूछताछ कर रहे अधिकारी भी हैरत में पड़ गए। दरअसल, सुरेश अधिकारियों काे व्यापार डेमाे करके दिखा रहा था कि किस तरह वह जनप्रतिनिधि या पुलिस अधिकारियों के नंबर से दूसराें काे काॅल करके रुपए मांगता है। व्यापारियाें से 5 की बजाय 40 लाख एंठने के भास्कर के खुलासे के अगले ही दिन आईजी बिनीता ठाकुर ने भी इस मामले में एसपी से चर्चा की।

सुरेश के खिलाफ पुलिस ने आईटी एक्ट, धाेखाधड़ी और अमानत में खयानत के आराेप में प्रकरण दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। इधर, इस मामले के तार हवाला काराेबार से भी जुड़े हाेने की आशंका जताई जा रही है, हालांकि पुलिस ने अभी इसे लेकर काेई भी पुष्टि नहीं की है। सुरेश की पुलिस ने पांच दिन की रिमांड ली है। शनिवार काे जब पुलिस ने सुरेश से ऑनलाइन ठगी के बारे में पूछताछ की ताे उसने डेमाे करके दिखाया। सुरेश ने 340 रुपए के पैकेज से एक हैड कांस्टेबल के माेबाइल में एप डाउनलाेड करवाया।

इसके बाद हैड कांस्टेबल के मोबाइल से कांस्टेबल काे काॅल लगाया। लेकिन इससे पहले एप में उसने काेतवाल भैयालाल आंजना का नंबर फीड कर दिया था। जिससे काॅलिंग में कांस्टेबल के माेबाइल की डिस्प्ले पर काेतवाल का नंबर ही दर्शा रहा था। पकड़ में नहीं आए इसलिए सुरेश ने यह भी बताया कि वह एप डाउनलाेड के वक्त मांगी जाने वाली आईडी भी फर्जी ही रखता। इसके अलावा माेबाइल लाेकेशन नहीं मिले इसलिए वह डाेंगल का इस्तेमाल करता है। गौरतलब है कि सुरेश के खिलाफ प्रदेश के अलग-अलग थानों में 55 से ज्यादा केस दर्ज हैं।

कंट्राेल रूम से लिया काेतवाल का नंबर

व्यापारियाें से रुपए एंठने के लिए सुरेश ने काेतवाल भैयालाल आंजना का नंबर लेने पुलिस कंट्राेल रूम में काॅल किया था। कंट्राेल रूप का नंबर उसने इंटरनेट के जरिये आसानी मिल जाना बताया। कंट्राेल रूप से काेतवाल और उसका नंबर लेने के बाद उसे एप में फीड कर दिया। वहीं बाकि दाेनाें व्यापारियाें के नंबर भी उसने इंटरनेट के जरिये ही हासिल करना बताया। हालांकि, पुलिस इसके बयानाें की क्राॅस जांच कर रही है कि यह महज एक संयाेग था कि इंटरनेट से उसे इन दाेनाें व्यापारियाें के नाम ही मिले या साेची समझा प्लान था। सुरेश जाेधपुर में लक्ष्मण विश्नाेई नाम के एक व्यक्ति से संपर्क में था। जाेकि पेशे से वकील बताया जा रहा है। वहीं मुरलीधर डांगा का नाम का शख्स भी है जिसके तार हवाला काराेबार से जुड़े हाेने की आशंका है।

ये 3 सवाल मांग रहे जवाब

1. व्यापारियाें से अगर 40 लाख रुपए ऐंठे गए ताे उन्हाेंने 5 लाख रुपए ठगी हाेने की ही रिपाेर्ट क्याें दर्ज कराई?
2. काेतवाल के नाम से आए महज एक काॅल पर दाेनाें व्यापारियाें ने बिना सत्यापन के लाखाें रुपए कैसे दे दिए?
3. सुरेश काे आखिर इन दाे व्यापारियाें का नंबर कैसे मिला, इतने कम समय में लाखाें का लेनदेन कैसे हुआ?

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें