श्मशान में शव जलाने से रोका:दो समाज हुए आमने-सामने, यादव समाज बोला - उनके खाते में दर्ज है जमीन

बांसवाड़ा18 दिन पहले
वाड़िया कॉलोनी में नहर किनारे बने श्मशान में विवाद के बाद पहुंची पुलिस और समाजों के लोग।

वाड़िया कॉलोनी में नहर किनारे बने श्मशान में शव जलाने से रोकने का विवाद गरमा गया। बंजारा समाज के एक युवक का शव लेकर परिवार इस श्मशान पर पहुंचा तो यादव समाज के प्रतिनिधियों ने उन्हें अंतिम संस्कार करने से रोक दिया। इसके बाद दोनों पक्ष आमने-सामने हो गए। इस बीच करीब डेढ़ घंटे तक शव मौके पर पड़ा रहा। सूचना पर SDO पर्वत सिंह चूण्डावत, DSP सूर्यवीर सिंह एवं CI रतन सिंह चौहान मौके पर पहुंचे। वहां करीब एक घंटे तक अधिकारियों ने लोगों को समझाने के प्रयास किए। तब कहीं जाकर शव का अंतिम संस्कार हुआ।

यादव समाज प्रतिनिधियों से उनकी बात सुनते हुए पुलिस अधिकारी।
यादव समाज प्रतिनिधियों से उनकी बात सुनते हुए पुलिस अधिकारी।

CI चौहान ने बताया कि वाड़िया कॉलोनी स्थित श्मशान की जमीन पर यादव समाज उनका हक बता रहा है। पूर्व पार्षद देवीलाल यादव एवं शंकरलाल यादव का कहना है कि इस जमीन का उपयोग समाज करीब 70 सालों से कर रहा है। इस जमीन की खातेदारी भी समाज के नाम पर है।

बंजारा समाज अबसे पहले तक यहां किसी तरह के क्रियाकलाप नहीं करता था। चूंकि शव मौके पर पड़ा हुआ था। इससे दोनों पक्षों में तनाव के हालात बन गए। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर हालात सामान्य कराए। शव का अंतिम संस्कार भी कराया। CI चौहान ने बताया कि मामला अदालत में विचाराधीन है। जमाबंदी, जमीन की नपती सहित अन्य दस्तावेज के साथ कोर्ट को जानकारी दी जाएगी। इसके बाद कोर्ट से लागू फैसले को लागू कराया जाएगा। फिलहाल दोनों पक्षों में हालात सामान्य हो गए।

विवाद निपटा तो बंजारा समाज की ओर से शव का हुआ अंतिम संस्कार।
विवाद निपटा तो बंजारा समाज की ओर से शव का हुआ अंतिम संस्कार।
खबरें और भी हैं...