• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Banswara
  • Women Will Get Help In Police Stations 24 Hours, Migrant Women Labor Counseling And Help Room Started In Sallopat Police Station

परामर्श केंद्र:महिलाओं को 24 घंटे थानों में मिलेगी मदद, सल्लोपाट थाने में प्रवासी महिला श्रमिक परामर्श और सहायता कक्ष की शुरुआत

रोहनवाड़ीएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सल्लाेपाट थाने में परामर्श केंद्र का उदघाटन करते अतिथि। - Dainik Bhaskar
सल्लाेपाट थाने में परामर्श केंद्र का उदघाटन करते अतिथि।

पुलिस थाना सल्लोपाट में आजीविका ब्यूरो व पुलिस प्रशासन के साझे प्रयास से प्रवासी महिला श्रमिक परामर्श एवं सहायता कक्ष का उद्घाटन थानाधिकारी अंसार अहमद की अध्यक्षता में किया गया। आजीविका ब्यूरो से कमलेश शर्मा ने बताया कि इसका मकसद उन महिला श्रमिकों के लिए है जो प्रवास के दौरान कई दुर्घटनाएं दुर्व्यवहार हो जाने के बाद भी महिलाएं न्यायिक प्रक्रियाओं में जाने से असहज महसूस करती हैं। लेकिन इसकी शुरुआत के बाद पूरी उम्मीद है कि आगामी समय में महिलाएं बिना डरे अपनी समस्याओं को लेकर थानों तक पहुंचेंगी।

साझा कार्यक्रम के तहत प्रवासी महिला श्रमिक सहायता एवं परामर्श कक्ष के बेनर तले फीता काटकर आजीविका ब्यूरो की आभा मिश्रा थानाधिकारी अंसार अहमद और सल्लोपाट काउंसलर रेखा सरपंच फुल्पा देवी चरकनी पंचायत सरपंच किंजल द्वारा उद्घाटन किया गया इस दौरान थाना सल्लोपाट से थानाधिकारी अंसार अहमद ने बताया की महिलाओं के कई तरह के मामले आते हैं और सल्लोपाट थाने में ज्यादातर महिलाओं और किशोरियों के मामले आते हैं जिसमें देखा जा सकता है कि 1 माह में 15 से 20 मामले ऐसे होते हैं जो महिला और लड़कियों से जुड़े हुए होते है हमें और हमारी पूरी टीम को बहुत खुशी है कि आजीविका ब्यूरो की पहल से महिला डेस्क के माध्यम से महिला काउंसलर पांच थानों में बिठाई जा रही है।

जिससे महिला मामलों में काफी सपोर्ट मिल पाएगा। सल्लोपाट सरपंच फुलपा देवी ने महिलाओं की सुरक्षा अपने आप को आगे लाने के लिए जागरूक करने पर विचार रखे। धुलिदास कटारा और हरलाल गरासिया द्वारा पलायन के दौरान महिला और लड़कियों के साथ होने वाले मामलों में काफी सुधार लाने की जरूरत पर विचार रखे। आजीविका ब्यूरो संस्था से आभा मिश्रा ने कार्यक्रम की शुरुआत के प्रयास कैसे रहे उनको साझा किया। संचालन प्रीमा धुर्वे ने किया। टीना गरासिया ने समुदाय स्तर पर महिलाओं के मामलों में जिस तरीके से निर्णय किए जाते हैं, उसमें महिलाएं अपना पक्ष नहीं रख पाती है।

खबरें और भी हैं...