मिनी सचिवालय पर VHP-बजरंग दल का प्रदर्शन:राज्य सरकार के खिलाफ की नारेबाजी, तुष्टिकरण की राजनीति का लगाया आरोप

बारां3 महीने पहले
हिंदू संगठनों के पदाधिकारियों ने राज्य सरकार पर समुदाय विशेष के लोगों को संरक्षण देने का आरोप लगाया। - Dainik Bhaskar
हिंदू संगठनों के पदाधिकारियों ने राज्य सरकार पर समुदाय विशेष के लोगों को संरक्षण देने का आरोप लगाया।

विश्व हिंदू परिषद (विहिप) ने प्रदेश व्यापी आह्वान पर जोधपुर, करौली, भीलवाड़ा में हुई हिंसा की घटनाओं के विरोध में प्रदर्शन किया। बारां जिला मुख्यालय पर विहिप और बजरंग दल ने विरोध प्रदर्शन में राज्य सरकार पर तुष्टीकरण की राजनीति करने का आरोप लगाया। संगठन पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने शहर के प्रमुख चौराहों व मार्गों से होते हुए रैली निकली। इसके बाद मिनी सचिवालय पहुंचकर राज्य सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर विरोध-प्रदर्शन किया। इसके बाद कलेक्टर को राज्यपाल के नाम ज्ञापन सौंपा।

विहिप कार्यकर्ता व पदाधिकारी खाकी बाबा की बगीची से एक साथ रैली के रूप में निकले। उन्होंने प्रताप चौक पर ज्ञापन पढ़ कर सुनाया और फिर मिनी सचिवालय भवन पहुंचकर नारेबाजी की और कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा। इस दौरान विहिप के चित्तौड़ प्रांत के अध्यक्ष प्रताप सिंह नागदा ने गहलोत सरकार को तुष्टिकरण की नीति अपनाने वाली सरकार बताया। हिंदू संगठनों के पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने कहा कि प्रदेश में पिछले दिनों करौली, भीलवाड़ा व जोधपुर में हिंसक घटनाएं हुई, जिसमें राज्य सरकार ने समुदाय विशेष के लोगों को संरक्षण दिया। प्रशासन और पुलिस की ओर से भी पक्षपातपूर्ण कार्रवाई की जा रही है। ज्ञापन में सभी घटनाओं की सीआईडी, सीबीआई से जांच करवाने की मांग की है। इस दौरान जिला अध्यक्ष गजेंद्र मालवीय, जिला मंत्री द्वारका लाल शर्मा, जिला पालक बाबूलाल नागर, प्रचार-प्रसार प्रमुख किशन मुरारी कसेरा, ओम सारस्वत, सीताराम सोनी व सत्यनारायण गर्ग समेत कई पदाधिकारी-कार्यकर्ता मौजूद रहे।