जसोल मां के दरबार में उमड़े श्रद्धालु:त्रयोदशी पर श्रद्धालुओं के जयकारों से गूंजा जसोल धाम

बालोतरा22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

बालोतरा उपखंड क्षेत्र के जसोल कस्बे में भोर की पहली किरण, मन मे जसोल मां का आसरा लिए और कतार में खड़े श्रद्धालु जयकारों के साथ श्री राणी भटियाणीसा के दर्शन को आतुर नजर आए। कार्तिक शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को जसोलधाम में श्रद्धा का सैलाब उमड़ा। मां के दर्शन, पूजन करने के लिए प्रदेश व क्षेत्र के कोने-कोने से हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचे।

श्रद्धालुओं ने मां के दरबार में शीश झुका, परिवार व क्षेत्र में खुशहाली की कामना की। दिन भर श्रद्धालुओं की आवाजाही से मेले जैसा माहौल बना नजर आया। बता दें कि धार्मिक रूप से कार्तिक मास का बड़ा महत्व होने पर शुक्ल पक्ष की शुरूआत से ही श्री माता राणी भटियाणी मंदिर में श्रद्धालुओं के पहुंचने का जो सिलसिला शुरू हुआ था, वह अनवरत जारी है। अब तक हजारों श्रद्धालु मां के दरबार में धोक देकर मन्नतें मांग चुके हैं। दूर-दूर से श्रद्धालुओं व पैदल जत्थों के पहुंचने का क्रम जारी है।

त्रयोदशी दर्शन का बड़ा महत्व होने पर रविवार को प्रदेश व क्षेत्र भर से बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। काफी तादाद में श्रद्धालु अल सुबह मां के जयकारे लगाते व भजन गाते हुए पैदल जत्थों के रूप में मंदिर पहुंचे। त्रयोदशी को माता राणी भटियाणीसा की प्रतिमा का विशेष पूजन कर आकर्षक श्रृंगार किया गया। दिन निकलने के बाद रेल, बसों व निजी साधनों से बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे। मंदिर से प्रवेश मार्ग तक लंबी कतारें नजर आई।

श्रद्धालुओं ने मां के दरबार में शीश नवा, चुंदड़ी, कुमकुम, श्रीफल के साथ परिवार व प्रदेश में सुख समृद्धि की कामना की। साथ ही जयकारे लगाते व भजन गाते हुए मंदिर की परिक्रमा लगाई। इससे पूरे दिन माहौल धर्ममय बना रहा। परिसर में स्थित श्रीबायोसा, श्री लालबन्ना, श्री सवाईसिंह जी, श्री खेतलाजी व श्री भेरुजी के मंदिरों में दर्शन पूजन कर परिवार में खुशहाली की कामना की। मंदिर ट्रस्ट की ओर से श्रद्धालुओं के लिए छाया, पानी, चिकित्सा व सुरक्षा के व्यापक बंदोबस्त किए गए।

खबरें और भी हैं...