श्री राणी भटियाणी मंदिर संस्थान का सेवा कार्य:जसोल अस्पताल को दिया एंबुलेंस का उपहार, वर्षों से बंद पड़ी एंबुलेंस को करवाया ठीक, पहले भी दे चुका है कई मेडिकल उपकरण

बालोतरा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

जनमानस की भावनाओं को ध्यान में रखते हुए श्री राणी भटियाणी मंदिर संस्थान जसोल मानवीय और चिकित्सकीय सेवाओं को लेकर कार्य कर रहा है। ये बात बालोतरा उपखण्ड अधिकारी नरेश सोनी ने कही। उन्होंने कहा कि मन्दिर संस्थान चिकित्सा सेवा में हमेशा अग्रणी रहता है। कोरोना की पहली और दूसरी लहर में अनेकों चिकित्सा उपकरण भेंट कर मरीजों को राहत पहुंचाने का कार्य किया।

पूर्व में भी कोरोना के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए मंदिर के ट्रस्ट ने राजकीय नाहटा चिकित्सालय बालोतरा और कोठारी राजकीय चिकित्सालय जसोल में चिकित्सा उपकरण भेंट किए थे। उसी कड़ी में बुधवार को जसोल सामुदायिक अस्पताल में बंद पड़ी एंबुलेंस को ठीक करवा कर अस्पताल को सुपुर्द किया।

जसोल अस्पताल प्रभारी डॉ सौरभ शारदा ने कहा कि जसोल अस्पताल में लम्बे समय से दुर्घटना में क्षतिग्रस्त हुई एम्बुलेंस को ठीक करवाने के लिए हमने मन्दिर संस्थान से आग्रह किया तो उन्होंने उसी समय स्वीकार करते हुए तैयार करवाने की बात कही।

करीब 2 लाख की लागत से एम्बुलेंस अब तैयार होकर आई है। डॉ बलराजसिंह पंवार ने कहा हमने राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र जसोल में दूर दराज ग्रामीण इलाकों से पहुंचने वाली प्रसूताओं को अस्पताल में आधुनिक सुविधा देने के उद्देश्य से तथा कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान अस्पताल में उपचार के लिए आने वाले मरीजों को राहत पहुंचाने हेतु चिकित्सा उपकरण दिए गए।

मन्दिर संस्थान द्वारा अस्पताल में एक एयर कंडीशनर 1.5 टन, एक फोएटल हार्ट डाॅप्लर, एक मल्टी पैरा माॅनिटरिंग मशीन और पांच टेबल टॉप पल्स ऑक्सीमीटर दिए गए। संस्थान अध्यक्ष रावल किशनसिंह जसोल ने कहा कि हर जरूरत मन्द की सेवा करना ही मन्दिर ट्रस्ट का उद्देश्य है।

मन्दिर में आने वाले भक्तों के आस्था पुष्प को जन सहयोग के लिए लगाया जा रहा है। उन्होंने कहा है कि कोरोना की इस महामारी से सामना करने के लिए सभी का सहयोग जरूरी है और किसी भी स्तर पर घबराने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र से आने वाली प्रसूताओं को राजकीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जसोल पर ही उन्हें उचित उपचार और सुविधा मिले, जिससे उनको अन्यत्र जाना नहीं पड़े। मन्दिर संस्थान ने हर समय सहयोग किया है। इस कोरोना काल में भी अस्पताल के डॉक्टरों से राय लेते हुए उनकी मांग पर जरूरतमंद उपकरण दिए गए जिससे अस्पताल में आने वाले ग्रामीण मरीजों को राहत मिलेगी। उन्होंने कहा कि मन्दिर संस्थान बहुत ही नए तरीके से कार्य कर रहा है ।

प्रसूताओं को बांटे कम्बल-

श्री राणी भटियाणी मन्दिर संस्थान ने अस्पताल को 70 कम्बल भेंट किए हैं। ट्रस्ट की ओर से दिए गए इन कम्बल का माघ मास में राजकीय अस्पताल में प्रसूताओं को बांटे गए। जब मन्दिर ट्रस्ट की ओर से दिए कम्बल को अस्पताल कर्मियों ने प्रसूताओं को दिया तो उन्होंने ट्रस्ट के कार्यों की सराहना की।

ये रहे मौजूद-

इस दौरान वरिया महंत गणेश पूरी महाराज, फतेहसिंह, मांगूसिंह जागसा, गजेन्द्रसिंह, लालसिंह असाड़ा, सूरजभान सिंह दांखा, गुलाबसिंह डंडाली, देवेंद्र कुमार माली, चंपालाल प्रजापत, राजेश कुमार पंजाबी, सागरमल मेघवाल, ओमप्रकाश प्रजापत, शांतिलाल सुथार, कन्यालाल प्रजापत, निजाम खान, दिनेश पटेल, कुलवंत सिंह, जगदीश सिंह, सावित्री विश्नोई, संस्थान मैनेजर जेठु सिंह, भोपाल सिंह मलवा सहित अस्पताल के कर्मचारी मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...