पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रिकवरी प्लांट:देश का पहला कास्टिक रिकवरी प्लांट बिठूजा में बनेगा, ‌लागत रुपये 7.20 करोड़

बालोतरा8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल लागत का 80 प्रतिशत आर्थिक अनुदान देगा

देश का पहला कास्टिक रिकवरी प्लांट बालोतरा के बिठूजा औद्योगिक क्षेत्र में बनने जा रहा है। इसके निर्माण के लिए राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल के अध्यक्ष पीके गोयल की उपस्थिति में मंगलवार को राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल के सदस्य सचिव उदय शंकर एवं के उपाध्यक्ष के (बिठुजा) बालोतरा वाटर पॉल्यूशन कंट्रोल ट्रीटमेंट एंड रिसर्च फाउंडेशन ट्रस्ट के मध्य जयपुर मुख्यालय में करार हुअा।

चेलाराम चौधरी बीठूजा सीईटीपी में 500 केएलडी क्षमता के बनने वाले इस संयुक्त कास्टिक रिकवरी संयंत्र के निर्माण पर 7.20 करोड़ रुपए खर्च होंगे।बालोतरा वाटर पॉल्यूशन कंट्रोल ट्रीटमेंट एंड रिसर्च फाउण्डेशन ट्रस्ट के अध्यक्ष सुभाष मेहता ने बताया कि संयुक्त कास्टिक रिकवरी संयंत्र परियोजना में राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल की ओर से लागत का 80 प्रतिशत आर्थिक अनुदान दिया जाएगा। वहीं सीईटीपी ट्रस्ट की

ओर से लागत का 20 प्रतिशत वहन किया जाएगा। इस परियोजना के लिए पर्यावरण विभाग की ओर से वर्ष 2017-18 के बजट में बाड़मेर जिले के बीठूजा क्षेत्र में स्थित धुपाई की औद्योगिक इकाइयों से निकलने वाले अपशिष्ट से कास्टिक की रिकवरी के लिए पायलट स्तर पर संयंत्र की स्थापना किए जाने की घोषणा की गई थी। इस प्रकार का संयुक्त रूप से काॅमन कास्टिक रिकवरी संयंत्र की यह परियोजना पायलट स्तर पर पूरे

भारत में प्रथम परियोजना है। 500 केएलडी संयुक्त कास्टिक रिकवरी संयंत्र निर्माण परियोजना की कुल लागत रुपए 7.20 करोड़ है। मेहता ने बताया कि इस परियोजना के लिए राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल से अनुदान राशि स्वीकृत करवाने एवं एमओयू करवाने में स्थानीय विधायक मदन प्रजापत का विशेष सहयोग रहा है। विधायक प्रजापत बालोतरा के वस्त्र उद्योग को संरक्षण एवं बढावा देने में हमेशा उत्सुक रहे हैं एवं उद्योगों के विकास एवं बढ़ावा देने में अपना भरपूर सहयोग करते रहे हैं। अनुबंध हस्ताक्षरित करने के अवसर पर राजस्थान राज्य प्रदूषण नियंत्रण मंडल के मुख्य पर्यावरण अभियन्ता विजय कुमार सिंघल, सीईटीपी बीठूजा के ट्रस्टी गनी मोहम्मद सुमरो, प्लांट मैंनेजर सुधीर माथुर एवं प्रदूषण नियंत्रण मंडल के अन्य पदाधिकारी भी उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...