शारदीय नवरात्रा का समापन:आखिरी दिन मां सिद्धिदात्री का किया आह्लान, सुख समृद्धि की कामना

बालोतरा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बालोतरा उपखंड क्षेत्र के जसोल शारदीय नवरात्र के अंतिम दिन मां सिद्धिदात्री का आह्वान किया गया। इस दौरान राणी भटियाणी मन्दिर संस्थान अध्यक्ष रावल किशन सिंह जसोल, जूना अखाड़ा अंतरराष्ट्रीय प्रवक्ता नारायणगिरि महाराज दुधेश्वर मठ गाजियाबाद और सर्व समाज ने कन्या पूजन कर सुख समृद्धि की कामना की। छोटी बच्चियों को देवी स्वरूप मानते हुए उनकी पूजा की गई।

इस दौरान कन्याओं को भोजन कराकर सुख समृद्धि की कामना की
इस दौरान कन्याओं को भोजन कराकर सुख समृद्धि की कामना की

आचार्य पंडित अभिषेक जोशी ने राणी भटियाणी मन्दिर संस्थान जसोल की और से शारदीय नवरात्रि पर्व को लेकर चल रहे धार्मिक अनुष्ठान की पूर्णाहुति में कहा कि सिद्धिदात्री देवी का ये सबसे सिद्ध अवतार माना जाता है। केवल इस दिन देवी मां की उपासना करने से सम्पूर्ण नवरात्रि की उपासना का फल मिलता है। उन्होंने कहा कि देवता हों या मनुष्य सभी को सिद्धि देने वाली मां सिद्धिदात्री ही हैं। इसलिए इनकी पूजा के बगैर नवरात्रि का पर्व सफल नहीं माना जाता है। इस दिन कन्या पूजन का भी विशेष महत्व बताया गया है। ये समस्त वरदानों और सिद्धियों को देने वाली देवी हैं। यह कमल के पुष्प पर विराजमान हैं और इनके हाथों में शंख, चक्र, गदा और पद्म है। यक्ष, गंधर्व, किन्नर, नाग, देवी-देवता और मनुष्य सभी इनकी कृपा से सिद्धियों को प्राप्त करते हैं।

धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक, कन्याओं के रूप में मां दुर्गा स्वंय अपने अलग-अलग रूपों में कन्या पूजन के लिए आती हैं। अगर आप भी मां भगवती से अपनी हर मुराद पूरी करवाना चाहते हैं तो कन्या पूजन जरूर करें। इस दौरान ठा. गजेन्द्र सिंह जसोल, फ़तेहसिंह जसोल, लालसिंह असाड़ा, ईश्वरसिंह भँवरानी, देवेंद्र कुमार माली, जेतमालसिंह (ado), उदयसिंह डंडाली, जोगसिंह असाड़ा, मोहन भाई पंजाबी, देवीसिंह कितपाला, मुल्तानमल माली, सुमेरसिंह डाबड़ मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...