वर्ष 2009 और 2012 में हुई थी आखिरी बार मरम्‍मत:सरूपे का तला को जोड़ने वाली पीडब्ल्यूडी की 35 किमी. लंबी सड़क 10 सालों से क्षतिग्रस्त

चौहटनएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चौहटन से सरूपे का तला जाने वाली क्षतिग्रस्त सड़क। - Dainik Bhaskar
चौहटन से सरूपे का तला जाने वाली क्षतिग्रस्त सड़क।

उपखंड मुख्यालय चौहटन से अंतिम छोर सरूपे का तला को जोड़ने वाली सार्वजनिक निर्माण विभाग की 35 किमी. सड़क 10 सालों से क्षतिग्रस्त है। करीब 36 साल पूर्व 1985 में इस सड़क का निर्माण हुआ था। इसके बाद विभाग ने 1 से 17 किमी. सड़क का नवीनीकरण 2009 में व शेष 18 किमी. नवीनीकरण 2012 में करवाया था।

इसके बाद पिछले दस साल से यह सड़क क्षतिग्रस्त हो गई। जगह-जगह गहरे गड्ढे होने से आवागमन में भारी परेशानी झेलनी पड़ रही है। 35 किमी. सड़क पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो चुकी है। जबकि विभाग की गाइडलाइन के मुताबिक 8 साल में सड़क नॉन रिपेयरिंग वाली सड़क में आ जाती है। इसके बावजूद विभाग ने इस सड़क का पुन: निर्माण नहीं करवाया है।

चौहटन से सरुपे का तला तक 35 किमी. सड़क सालों से क्षतिग्रस्त है। इसको लेकर जनप्रतिनिधियों को भी कई बार अवगत करवाया गया। सड़क की चौड़ाई 10 फीट ही है, ऐसे में आमने-सामने के वाहन क्रॉसिंग के दौरान भी हादसे का खतरा रहता है।

ग्रामीणों की इस सड़क की चौड़ाई बढ़ाने के साथ ही इस सड़क का पुन निर्माण करवाने की मांग की है। इस सड़क मार्ग से कापराऊ, ताजाणियों का तला, मते का तला, पणाणियों की ढाणी, ईश्वरपुरा, चमनपुरा, बूठ राठौड़ान, बावड़ी कला, देदूसर, अली की ढाणी, प्रेम सिंह की ढाणी, नवातला जेतमाल, माणके की ढाणी, हूरों का तला, भीलों का तला, समेलो का तला, मीठराऊ, गुमाने का तला, बिंजासर, एकलिया धोरा, भारे का तला, मिये का तला, मीठे का तला, ईटादा, सरूपे का तला, गोहड़ का तला, तालसर, कृष्णा का तला, रबासर, अदरीम का तला सहित 24 ग्राम पंचायतों के 156 राजस्व गांवों को चौहटन उपखंड मुख्यालय चौहटन से जोड़ती है। 2012 के बाद पीडब्ल्यूडी विभाग नवीनीकरण करना भूल गया है। सैन्य सुविधा के लिहाज से भी यह सड़क सबसे महत्वपूर्ण है। बॉर्डर तक बीएसएफ जवानों के लिए भी आवागमन के लिए यह प्रमुख सड़क मार्ग है।

सड़क मार्ग के क्षतिग्रस्त होने से वाहन चलाना मुश्किल हो गया है। सड़क पर जगह-जगह गड्ढे पड़े हुए है। इससे वाहन दुर्घटनाओं का खतरा ज्यादा रहता है। -लेखराज तंवर, ग्रामीण, सरूपे का तला।

चौहटन मुख्यालय से सरुपे कात ला तक जोड़ने वाली 35 किमी. सड़क कई सालों से क्षतिग्रस्त है। इस सड़क से 24 गांवों के हजारों लाेगों का आवागमन प्रभावित हो रहा है। विभाग समय पर इस सड़क का निर्माण करवाए।-दशरथ मेघवाल, पंस. सदस्य देदूसर।

सरुपे का तला सड़क को 2022-23 के बजट घोषणा में शामिल करवाने का प्रयास किया जाएगा। इसकी चौड़ाई भी 10 से 18 फीट तक किया जाना प्रस्तावित है। सरकार से वित्तीय स्वीकृति मिलने पर सड़क का नवीनीकरण करवाया जाएगा। -सुजानाराम विश्नोई, एक्सईएन, पीडब्ल्यूडी।

खबरें और भी हैं...