पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

सत्ता संग्राम का 33वां दिन:विधायकों व मंत्रियों का आलाकमान को साफ संदेश पायलट सहित 19 विधायकों को कोई पद नहीं मिले

जैसलमेर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • विधायक बोले, वे सिर्फ 19 थे, हम तो 80 से ज्यादा है, हमारी भी सुनो!

दिल्ली में सचिन पायलट और राहुल गांधी के बीच हुई मुलाकात के बाद पायलट गुट वापसी को राजी हो गया। मानेसर में ठहरे सभी विधायक वापस जयपुर भी पहुंच गए। इस बीच सीएम अशोक गहलोत जयपुर से जैसलमेर अपने समर्थक विधायकों के पास पहुंचे। यहां मौजूद गहलोत खेमे के विधायकों में पायलट गुट के वापस आने से भारी रोष व्याप्त है। यहां मौजूद सभी विधायकों ने आलाकमान के इस फैसले से नाराजगी जताई है।

बताया जा रहा है कि जैसलमेर की होटल सूर्यागढ़ में मौजूद सभी विधायकों ने यहां आए हुए ऑब्जर्वर को बता दिया है कि पायलट गुट भले ही वापस आ गया है लेकिन आगामी साढ़े तीन साल तक सचिन पायलट सहित सभी 19 विधायकों को राजस्थान में कोई पद नहीं दिया जाए। ऐसे में सचिन पायलट का दोबारा प्रदेशाध्यक्ष व उपमुख्यमंत्री बनने की राह में रोड़ा आ गया है। साथ ही उनके साथ गए विधायकों के पास जो मंत्री पद थे वे भी शायद ही उन्हें वापस मिले।

गहलोत खेमे के विधायकों की ओर से जो प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है उसमें यहां तक कहा गया है कि जो बागी विधायक वापस आ रहे हैं उनकी विधानसभा में बैठक व्यवस्था भी बदली जाए। इस मामले में जानकारों का कहना है कि व्यवस्था तो बदलेगी, क्योंकि एक तो कोरोना का संकट है और दूसरा जिनके पास मंत्रालय थे वे अब नहीं हैं।

तल्ख तेवर; 70 से 80 विधायकों ने कहा कि आलाकमान अब हमसे भी करें मुलाकात

सूर्यागढ़ होटल में मौजूद अधिकांश विधायक इस तरह के प्रस्ताव तैयार करने में जुटे हुए हैं जो आलाकमान को दिया जाएगा। सूत्रों के अनुसार 70 से 80 विधायकों के तेवर तीखे हैं और वे किसी भी तरह से बागियों को साथ में रखने के मूड में नहीं है।

राहुल व प्रियंका गांधी जब असंतुष्ट विधायकों से मुलाकात कर सकते हैं तो हमसे भी मुलाकात करें। इसके लिए विधायक दिल्ली जाने को तैयार हैं। उनका कहना है कि वे सिर्फ 19 थे और हम तो 80 से भी ज्यादा है, ऐसे में आलाकमान को हमारी भी सुननी पड़ेगी।

पायलट गुट के नेताओं को नहीं मिले कोई पद
नाराज विधायकों का कहना है कि जिन बागियों ने सरकार को गिराने का षड़यंत्र रचा था उन्हें सत्ता व संगठन में किसी तरह का कोई पद नहीं दिया जाना चाहिए। उन्हें बागी होने का खामियाजा तो भुगतना ही पड़ेगा।

मंत्री बनने का सपना देख रहे विधायकों को लगा झटका, पायलट गुट के लौटने से परेशानी

गहलोत खेमे में नाराजगी की सबसे बड़ी वजह यह है कि इस खेमे में मौजूद प्रभावशाली विधायकों को पोर्टफोलियो की उम्मीद थी। बताया जा रहा है कि पायलट सहित उनके साथ गए दो तीन मंत्रियों के मंत्रालय गहलोत खेमे में बंटने थे। ऐसे में कइयों ने मंत्री बनने की उम्मीद लगा ली थी और कई मंत्रियों ने अच्छा पोर्टफोलियो मिलने की आस लगाई थी। लेकिन अब उन्हें लग रहा है कि जब वे वापस आ रहे हैं तो उनकी उम्मीदों पर पानी न फिर जाए।

विधायकों से मिले सीएम, आश्वासन दिया
मंगलवार को सीएम गहलोत जैसलमेर पहुंचे और यहां आने के बाद वे सभी विधायकों से मिले। सभी ने एकराय होकर अपना विरोध दर्ज करवाया। इस दौरान मौजूद संगठन के वरिष्ठ नेताओं ने आलाकमान तक उनकी बात पहुंचाने का आश्वासन भी दिया। साथ ही यहां मौजूद सभी विधायकों ने सीएम अशोक गहलोत के प्रति अपनी आस्था जताई।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर आप कुछ समय से स्थान परिवर्तन की योजना बना रहे हैं या किसी प्रॉपर्टी से संबंधित कार्य करने से पहले उस पर दोबारा विचार विमर्श कर लें। आपको अवश्य ही सफलता प्राप्त होगी। संतान की तरफ से भी को...

और पढ़ें