विद्यार्थियों के लिए छाया की समस्या:धारासर निवासी 80 शिक्षकों ने 5 लाख की लागत से विद्यालय में बनाया टीन शैड

जैसलमेर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आनंददायी शिक्षा के लिए विद्यालय परिसर में भवन व दीवारों पर बनाई पेंटिंग

राउमावि धारासर में विद्यार्थियों के लिए छाया की समस्या होने के कारण विद्यालय में प्रार्थना स्थल पर टिन शेड की आवश्यकता महसूस हुई। इधर उधर प्रयास करने के बाद भी जब कोई समाधान नहीं हुआ तब धारासर निवासी शिक्षकों की एक बैठक रखकर टीनशेड निर्माण के बारे में विचार किया गया। विद्यालय के वरिष्ठ शिक्षक बसंत कुमार जाणी ने बताया कि प्रधानाचार्य मूलाराम बेनीवाल, खेमाराम गोदारा, बाबूलाल हुडा, सिमरथाराम खांगट, वीरेंद्र कुमार हुडा, बालाराम जाखड़, कोशलाराम जाखड़, बाबूलाल जाखड़, पदमाराम सारण, गोमाराम सांई, गोसाइराम जाखड़, मगाराम खांगट सहित कुल 80 शिक्षकों के ग्रुप ने मिलकर तय किया कि केवल इस गांव के निवासी शिक्षक चंदा इकठ्ठा करके टिन शेड का निर्माण करवाएंगे। धारासर पंचायत निवासी कुल 80 शिक्षकों के ग्रुप ने मिलकर अनूठी पहल करते हुए 5 लाख की लागत से विद्यालय में 65*70 फिट के टीन शैड का निर्माण करवाया।

विद्यालय में रंग रोगन व परिसर में भवन व दीवारों पर शानदार पेंटिंग के साथ राष्ट्रगान, राष्ट्रगीत, प्रतिज्ञा, भारत व राजस्थान के मानचित्र सहित कई सुंदर कलाकृतियों विद्यालय को शानदार वातावरण दे रहे है।

विद्यालय में रूपाराम सारण द्वारा विद्यालय का प्रवेश द्वार व प्याऊ का निर्माण, मोहनलाल हुडा द्वारा विद्यालय के समस्त 400 विद्यार्थियों को बैग वितरण, माधवसिंह जाखड़ द्वारा इन्वर्टर, जगदीश सांई द्वारा प्रिन्टर, कानाराम बेनीवाल द्वारा रेफ्रिजरेटर, रमेश जाखड़ द्वारा आटा चक्की, सत्यपाल सारण द्वारा प्रोजेक्टर सहित कई भामाशाहों के सहयोग से विद्यालय में भौतिक संसाधन जुटाए गए। आगे भी विद्यालय में सीसीटीवी कैमरे, पुस्तकालय वाचनालय, खेल मैदान, सरस्वती मन्दिर सहित कई विकास कार्य भामाशाहों की मदद से करवाने की योजना बना रहे है।

^विद्यालय में भौतिक संसाधनों के साथ साथ पढ़ाई का भी बेहतर वातावरण है। विद्यालय के सभी शिक्षक अवकाश के दिनों में भी बोर्ड कक्षाओं को अध्यापन करवाते है। गत सत्र में 10वीं व 12वीं दोनों बोर्ड कक्षाओं के परीक्षा परिणाम भी शत प्रतिशत रहा है।

-बसंत कुमार जाणी, वरिष्ठ शिक्षक धारासर

^विद्यालय में भामाशाहों का खूब सहयोग मिल रहा है। विद्यालय की हर आवश्यकता को भामाशाह पूरी करते है। विद्यालय में भौतिक संसाधनों की कोई कमी नहीं है। विद्यालय में भविष्य में कुछ और संसाधन भी जुटाने का प्रयास कर रहे है।

-मूलाराम बेनीवाल, प्रधानाचार्य धारासर

खबरें और भी हैं...