पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना से लॉकडाउन, पानी कहां से लाएं ग्रामीण ?:ढाणी में 35 परिवार, 54 कोरोना संक्रमित, जीरो मोबिलिटी, काेरोना के डर से पानी के टैंकर आ नहीं सकते, एक-एक बूंद के लिए तरस रहे ग्रामीण

जैसलमेर/बाड़मेरएक महीने पहले
रामदेवरा के लखसिंह की ढाणी में पसरा सन्नाटा।

राजस्थान के इलाकों में कोरोना महामारी दोहरी मार दे रही है। पूरा गांव कोविड-19 की चपेट में आ गया तो प्रशासन ने जीरो कंटेनमेंट जोन घोषित करते हुए जीरो मोबिलिटी कर्फ्यू लगा दिया। दूसरी तरफ प्रशासन के आदेश के बाद रामदेवरा लखसिंह की ढाणी के लोग पीने की पानी की एक बूंद के लिए तरस रहे हैं।

सरकार के आदेश के बाद कोई भी पानी का टैंकर सप्लाई करने नहीं आ रहा। ऐसे में ग्रामीण बीमारी से लड़ें या पानी की का इंतजाम करें। प्रशासन से लेकर सरकार में सुनने वाला कोई नहीं है। ग्रामीण पुकार लगा रहे हैं कि सुनो सरकार.....। ग्रामीणों का कहना है कोरोना बीमारी से तो फिर भी लड़ेंगे लेकिन अगर पानी नहीं हुआ तो जिंदा रहना बेहद मुश्किल हो जाएगा। हम बात कर रहे हैं जैसलमेर ज़िले रामदेवरा उपखंड के लखसिंह के ढाणी की।

पिछले 15 दिनों से टैकर से पानी की सप्लाई नहीं हुई न पाइपलाइन से। लखसिंह की ढाणी में पानी को लेकर त्राहि त्राहि मची है। लोगों का कहना है कि कोरोना से लड़कर हम जीत जाएंगे लेकिन पानी के लिए लिए जीरो मोबिलिटी क्षेत्र घोषित होने के बाद लड़ पाना मुश्किल है।

लखसिंह की ढाणी में 55 से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव

कोरोना संक्रमण इस बार गांवों में तेजी से फैला है। लखसिंह कि ढाणी में 35 परिवारों के घर हैं। करीब-करीब हर घर एक-दो कोरोना पॉजिटिव मरीज हैं। पूरे इलाके में 55 से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव मरीज हैं। पोकरण एसडीएम ने जीरो मोबिलिटी क्षेत्र घोषित करते हुए माइक्रो कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया।

कागजों में हो रही है टैंकर से आपूर्ति

लखसिंह की ढाणी के ग्रामीणों का आरोप है कि सरकार व स्थानीय प्रशासन कागजों में टैंकर की सप्लाई चल रही है लेकिन धरातल पर पिछले 15 दिनों से एक भी टैंकर नहीं आया। अब पानी की एक-एक बूंद के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है।

कोरोना की वजह से टैंकर चालक नहीं आ रहे हैं

कोरोना महामारी का डर इतना ज्यादा है कि पानी की सप्लाई करने वाले निजी व ठेकेदार के टैंकर चालक भी इतना कतरा रहे हैं की कंटेनमेंट जोन में पानी के टैकर लेकर नहीं जा रहे हैं। ग्रामीणों का आरोप है कि टैंकर चल तो रहे हैं लेकिन केवल कागजों में।

ग्रामीणों का कहना है कि हम ने जलदाय विभाग को फोन पर शिकायत भी की लेकिन अभी तक पानी की सप्लाई नहीं हुई हैं। कोरोना संक्रमण के डर से टैंकर वाले को पैसे देने के बावजूद भी पानी की सप्लाई नही कर रहे है। प्रशासन ने ठेकेदार को पानी आपूर्ति का ठेका दिया हुआ है वो भी डर के मारे नहीं आ रहे हैं।

लखसिंह की ढाणी के वकील अमरसिंह का कहना का कहना है कि जलदाय विभाग के अधिकृत ठेकेदार द्वारा टैंकरों की आपूर्ति नहीं की जा रही है। कागजों में टैंकर की आपूर्ति हो रही है। पिछले 15 दिनों में एक बार भी जलदाय विभाग द्वारा टैंकरों से आपूर्ति हुई है।